Home » इंटरनेशनल » A village is such that a huge reservoir of 680 tonnes of gold has been discovered, villagers refuse to dig
 

इस गांव में मिला सोने का सबसे बड़ा भंडार, दबा है 680 टन गोल्ड, भारत सरकार के पास भी नहीं है इतना रिज़र्व

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 April 2019, 18:12 IST

हमारे देश में रेत-बालू के लिए खूनी संघर्ष की ख़बरें आती ही रहती है. अवैध खनन के मुद्दे पर अधिकारी और माफियाओं का अक्सर टकराव होता है जिनमें कई मामलों के तार सरकार तक जुड़े होते हैं. ऐसे में अगर ये पता चल जाए कि किसी गांव में सोने का सबसे बड़ा भंडार है उस पर दावेदारी करने के लिए लोग कुछ भी कर गुजरने को तैयार रहेंगे. लेकिन एक गांव ऐसा है जहां 680 टन सोने के विशाल भंडार का पता चला है जो कि भारत के कुल सोने के भंडार (608 टन) से भी अधिक है.

आश्चर्य की बात ये है कि गांव के लोगों ने खुदाई से इंकार कर दिया है. ग्रामीणों से सरकार से साफ तौर पर कह दिया कि हमारी आने वाली पीढ़ियों के लिए बेहतर सेहत और पर्यावरण चाहिए न कि दौलत और सोना, इसलिए खुदाई हमें मंजूर नहीं है. इस सोने की कीमत 35 बिलियन डॉलर यानी लगभग 2.43 लाख करोड़ रूपये आंकी गई है.

सबसे बड़ा सोने का भंडार

काजामारका नाम का ये गांव दक्षिण अमेरिकी देश कोलंबिया में स्थित है. वहां की सरकार को जब गांव में दबा यह सोने के भंडार का पता चला तो एंग्लोगोल्ड कंपनी को खनन की जिम्मेदारी देने का फैसला किया. कंपनी के लोग पहुंचे तो गांव वालों ने विरोध शुरू कर दिया. कोलंबिया की सरकार के मुताबिक सोने का यह भंडार दक्षिण अमेरिका का अब तक का सबसे बड़ा भंडार माना जा रहा है.

गांव वालों को दौलत का लालच नहीं

ग्रामीणों के विरोध के बाद सरकार ने जनमत संग्रह करने का फैसला किया. लोग अपनी प्राकृतिक संपदा को बचाने के लिए एकजुट हो गए. 19 हजार की आबादी वाले गांव में सिर्फ 79 लोगों ने ही खुदाई के पक्ष में वोट डाला जबकि बाकी लोगों ने विरोध में वोट डाले. जनमत के बाद सरकार को खुदाई का काम नहीं करने के लिए विवश होना पड़ा.

कई देश सोना को रिजर्व के तौर पर रखते हैं ताकि आर्थिक संकट के समय अर्थव्यवस्था को मजबूती मिल सके. रिपोर्ट्स के मुताबिक, अमेरिका के पास सबसे अधिक सोने का भंडार है इसके बाद जर्मनी, इटली, फ्रांस और चीन के पास सोना है जबकि भारत का 10वें पायदान पर आता है.

सबसे बड़ा सोने का भंडार

काजामारका नाम का ये गांव दक्षिण अमेरिकी देश कोलंबिया में स्थित है. वहां की सरकार को जब गांव में दबा यह सोने के भंडार का पता चला तो एंग्लोगोल्ड कंपनी को खनन की जिम्मेदारी देने का फैसला किया. कंपनी के लोग पहुंचे तो गांव वालों ने विरोध शुरू कर दिया. कोलंबिया की सरकार के मुताबिक सोने का यह भंडार दक्षिण अमेरिका का अब तक का सबसे बड़ा भंडार माना जा रहा है.

कई देश सोना को रिजर्व के तौर पर रखते हैं ताकि आर्थिक संकट के समय अर्थव्यवस्था को मजबूती मिल सके. रिपोर्ट्स के मुताबिक, अमेरिका के पास सबसे अधिक सोने का भंडार है इसके बाद जर्मनी, इटली, फ्रांस और चीन के पास सोना है जबकि भारत का 10वें पायदान पर आता है.

First published: 20 April 2019, 18:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी