Home » इंटरनेशनल » Adani's coal mine to shift millions to a company in a tax haven: Australian media reports
 

अडानी की कोयला खदानों से अरबों रुपए भेजे जा रहे टैक्स हैवेन में: आस्ट्रेलियाई मीडिया

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 March 2017, 8:34 IST

खबर है कि गौतम अडानी की ऑस्ट्रेलियाई कंपनी, क्वींसलैंड की कारमाइकल खान से करीब 150 अरब रुपए कर मुक्त क्षेत्रों में एक शेल कंपनी पर लगा रही है.

ऑस्ट्रेलियाई ब्रॉडकास्टिंग कारपोरेशन ने कंपनी के जांच-परिणामों का विश्लेषण करके बताया है कि यदि यह प्रोजेक्ट जारी रहा, तो कंपनी केमैन द्वीप में सहायक स्वामित्व वाली कंपनी में करीब 150 अरब रुपए स्थांतरित कर देगी.

एबीसी की रिपोर्ट

एक अत्यंत महत्वपूर्ण ‘रॉयल्टी डीड’ के माध्यम से एक शैल कंपनी को प्रति टन 2 ऑस्ट्रेलियाई डॉलर (100 रुपए) प्राप्त करने के अधिकार दिए गए थे. कारमाइकल खान में दो दशक तक हर उत्पादन वर्ष में पहले चार लाख टन खनन के अलावा ये अधिकार दिए गए हैं. कारमाइकल खान की उत्पादन क्षमता को देखते हुए, इसके मायने होंगे करीब 120 मिलियन ऑस्ट्रेलियाई डॉलर (6 अरब रुपए) का प्रति वर्ष भुगतान होगा.

इस अधिकार से कंपनी पर अंतत: स्वामित्व अतुल्य रिसोर्सिस लिमिटेड का हो जाएगा, जो केमैन द्वीप में पंजीकृत एक शेल कंपनी है और जिस पर अडानी परिवार का नियंत्रण है. मुख्य शोधार्थी और एनर्जी रिसोर्स इंसाइट्स के एडम वॉल्टर्स ने एबीसी को बताया, ‘सरल शब्दों में कहें, तो यदि खान चलती है तो अडानी परिवार को प्रति टन 2 डॉलर का भुगतान होगा, यानि केमैन द्वीप में रजिस्टर्ड कंपनी के माध्यम से 3 अरब डॉलर, जिसका स्वामित्व एक टैक्स हीवेन (कर मुक्त देश) में है.’

यूटीएस में सेंटर फॉर कारपोरेट गवर्नेंस के निदेशक, सहायक प्रोफेसर थॉमस क्लार्क्स ने एबीसी को बताया, ‘मैं इसे एक ऐसी व्यवस्था बताऊंगा, जिसमें यदि खान चली, तो उससे अडानी परिवार खुद को संपन्न बनाएगा और अन्य साझेदार कंगाल बनेंगे. चिंता यह है कि यह महज शुरुआत हो सकती है.’

इससे भारत में अदाणी के शेयरधारकों पर भी प्रभाव पड़ सकता है. क्लार्क्स ने एबीसी को बताया कि, ‘जो अरबों रुपया अडानी की प्राइवेट कंपनी को मिल रहा है, वह बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध कंपनी के अल्पसंख्यक शेयरधारकों की कीमत पर होगा, जिसका अंतत: स्वामित्व कारमाइकल खान पर है.’

First published: 16 March 2017, 8:34 IST
 
अगली कहानी