Home » इंटरनेशनल » Afghan Taliban confirms Mullah Mansour's death, Haibatullah named the successor
 

मुल्ला मंसूर की मौत के बाद हैबतुल्ला बना अफगान तालिबान का नया चीफ

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 May 2016, 14:23 IST
(कैच न्यूज)

अमेरीका के ड्रोन हमले में मारे गए मुल्ला अख्तर मंसूर के बाद मुल्ला हैबतुल्ला अखुंदजादा को अफ़ग़ान तालिबान का नया नेता घोषित किया गया है.

तालिबान के प्रवक्ता के मुताबिक़ शीर्ष नेताओं की एक बैठक के बाद मुल्ला हैबतुल्ला अखुंदजादा को संगठन का नया नेता चुना गया. मुल्ला मंसूर ने बीते साल जुलाई में मुल्ला मोहम्मद उमर की जगह अफ़ग़ान तालिबान की कमान संभाली थी.

माना जा रहा है कि यह बैठक पाकिस्तान में हुई. आतंकवादी समूह तालिबान ने मीडिया में जारी बयान में कहा कि उसका नया नेता मुल्ला हैबतुल्ला अखुंदजादा है और वह मंसूर के दो सहायकों में से एक है.

ड्रोन हमले में मारा गया मंसूर

गौरतलब है कि पिछले शनिवार को पाकिस्तान के बलूचिस्तान में मुल्ला मंसूर अमेरिका के ड्रोन हमले में मारा गया था. अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक मुल्ला पर यह हमला पाकिस्तान में शनिवार सुबह करीब 6 बजे उस समय हुआ, जब एक अमेरिकी ड्रोन ने उसकी गाड़ी को निशाना बनाया था.

पढ़ें:अख्तर मंसूर की हत्या: अमेरिका, पाकिस्तान और तालिबान के लिए क्या हैं इसके मायने

जानकारी के मुताबिक पहली बार कोई तालिबानी नेता पाकिस्तानी सीमा के अंदर इस तरह से मारा गया है. इससे पहले अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने सोमवार को तालिबान प्रमुख मुल्ला मंसूर के पाकिस्तान के दक्षिण-पश्चिमी बलूचिस्तान प्रांत में मारे जाने की पुष्टि की थी.

ओबामा ने कहा, "हमने एक संगठन के मुखिया को मार गिराया, जो अमेरिकियों और अफगान जनता के खिलाफ युद्ध छेड़े हुए था."

पाकिस्तान ने जताई आपत्ति

अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी और अन्य नेताओं ने भी कहा कि तालिबान प्रमुख अमेरिका के ड्रोन हमले में मारा गया. ओबामा और दूसरे अमेरिकी नेताओं के बयानों के बावजूद पाकिस्तान ने जोर देकर कहा है कि मारे गए शख्स की पुष्टि करने के लिए जांच चल रही है.

मंसूर की मौत पर पाकिस्तान के आंतरिक मंत्री चौधरी निसार खान ने मंगलवार को कहा था कि पाकिस्तान अभी इस बात की पुष्टि नहीं कर सकता है कि अमेरिका के ड्रोन हमले में मारा गया शख्स तालिबान प्रमुख मुल्ला अख्तर मंसूर है.

पढ़ें:अमेरिकी ड्रोन हमले में तालिबानी नेता मंसूर ढेर

इस घटना के बाद पाकिस्तान ने इस्लामाबाद स्थित अमेरिकी राजदूत डेविड हेल को तलब कर ड्रोन हमले पर कड़ी आपत्ति भी जताई थी. मंसूर की मौत को आतंकवादियों के लिए बड़ा झटका और युद्ध से ग्रस्त अफगानिस्तान की शांति प्रक्रिया के लिए एक बड़ी कामयाबी माना जा रहा है.

First published: 25 May 2016, 14:23 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी