Home » इंटरनेशनल » Afghanistan: Modi, Afghan President Ashraf Ghani inaugurate Friendship Dam
 

हेरात में खुला भारत-अफगानिस्तान की 'दोस्ती का बांध'

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 June 2016, 16:25 IST
(एएनआई)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को पांच देशों की छह दिवसीय यात्रा पर रवाना हुए. इस यात्रा का पहला पड़ाव अफगानिस्तान था. पीएम मोदी का अफगानिस्तान के हेरात पहुंचने पर जोरदार स्वागत किया गया.

पीएम ने हेरात में 'सलमा डैम' का उद्घाटन किया. पीएम मोदी ने अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी के साथ इस बांध का औपचारिक उद्घाटन किया.

सलमा डैम के उद्घाटन के मौके पर अशरफ गनी ने प्रधानमंत्री मोदी और भारत सरकार के प्रति आभार व्यक्त किया. अशरफ गनी ने डैम के उद्घाटन से पहले कहा, "आज आपकी मदद से अफगानिस्तान के लोगों का 40 साल पुराना सपना पूरा होने जा रहा है."

1700 करोड़ का फ्रेंडशिप डैम

दूसरी तरफ पीएम मोदी ने इस बांध का नाम 'इंडिया-अफगान फ्रेंडशिप' रखने के लिए राष्ट्रपति गनी का शुक्रिया जताया. पीएम ने इस डैम को भारत-अफगानिस्तान के लिए ऐतिहासिक बताया. साथ ही उन्होंने कहा कि यह डैम अफगानिस्तान के विकास में बड़ा कदम है.

पीएम मोदी ने कहा कि हाल ही में हुए चाबहार समझौते से भी अफगानिस्तान को फायदा होगा. नरेंद्र मोदी ने अफगान सेना की भी तारीफ की.

सूत्रों के अनुसार हेरात प्रांत में चिश्ती शरीफ के पास हरिरुद नदी पर बना सलमा डैम 1700 करोड़ रुपये की लागत से बना है, जिसके लिए भारत ने 30 करोड़ डॉलर यानी करीब 1457 करोड़ रुपये की सहायता दी है.

हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट

1500 भारतीय और अफगानी इंजीनियरों ने मिलकर इस बांध का निर्माण किया है. इस पर 42 मेगावाट क्षमता की जलविद्युत परियोजना भी बनाई गई है. डैम को बनाने का फैसला जनवरी 2006 में लिया गया था. यह डैम 107 मीटर ऊंचा, 550 मीटर लंबा और 500 मीटर चौड़ा है.

मोदी ने पिछले साल 25 दिसंबर को काबुल में भारत के सहयोग से निर्मित संसद भवन का उद्घाटन किया था. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अफगानिस्तान के बाद कतर, स्विट्जरलैंड, अमेरिका और मैक्सिको के दौरे पर जाएंगे. उनकी इस यात्रा का मुख्य मकसद इन देशों के साथ भारत के व्यापार, ऊर्जा और सुरक्षा सहयोग को विस्तार देना तथा संबंधों को नयी गति प्रदान करना है.

विदेश यात्रा के दौरान मोदी 48 सदस्यीय परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) में भारत की सदस्यता के लिए सहयोग मांग सकते हैं. अमेरिका, स्विट्जरलैंड और मैक्सिको इस 48 सदस्य वाले वाले परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) में शामिल हैं. अमेरिका पहले ही भारत का समर्थन कर चुका है.

First published: 4 June 2016, 16:25 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी