Home » इंटरनेशनल » After Facebook top security executives of Google & Twitter going to leave, Cambridge Analytica Scandal
 

Facebook, Google, Twitter के शीर्ष सुरक्षा अधिकारियों ने बोला गुडबाय

अमित कुमार बाजपेयी | Updated on: 22 March 2018, 20:19 IST
फाइल फोटो

दुनिया की तीन सबसे प्रमुख इंटरनेट बेस्ड कंपनियों Google, Facebook और Twitter के दिग्गज सुरक्षा अधिकारियों ने कंपनी को गुडबाय बोल दिया है. यह मामला Facebook की एक सलाहाकार फर्म कैंब्रिज एनालिटिका द्वारा की गई कथित डाटा चोरी की घटना के बाद आया है.

इस संबंध में सबसे पहली खबर को दो दिन पहले न्यूयॉर्क टाइम्स ने छापा जिसमें उसने Facebook के प्रमुख सुरक्षा अधिकारी (सीएसओ) एलेक्स स्टैमॉस के जाने की बात लिखी. स्टैमॉस और कंपनी के शीर्ष नेतृत्व में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को रूसी एजेंसियों द्वारा चुनाव को प्रभावित करने को लेकर विवाद हुआ और उन्होंने कंपनी से जाने का फैसला ले लिया.

रिपोर्ट के मुताबिक अगस्त में स्टैमॉस Facebook को छोड़ देंगे. वैेसे स्टैमॉस ने अपने जाने की बात का खंडन नहीं किया लेकिन यह भी स्वीकार किया कि अब कंपनी में उनकी भूमिका बदल गई है. ट्विटर पर स्टैमॉस ने लिखा, "यह सच है कि मेरी भूमिका बदल गई, मैं फिलहाल उभरते सुरक्षा जोखिमों को जानने में ज्यादा वक्त दे रहा हूं और चुनाव सुरक्षा पर काम कर रहा हूं."

गौरतलब है कि इंफॉर्मेशन सिक्योरिटी की दुनिया में स्टैमॉस काफी सम्मानित शख्सियत हैं और उन्हें सख्त और नैतिक रूप से अच्छा कर्मचारी माना जाता है. स्टैमॉस की विदाई की खबर Facebook-कैंब्रिज एनालिटिका मामले के सामने आने के बाद आई. रिपोर्ट के मुताबिक ब्रिटेन की कंपनी (कैंब्रिज एनालिटिका) ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के यूजर्स की जानकारी जुटाई और इसका इस्तेमाल 2016 अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में लाभ पाने के लिए किया.

Facebook में आने से पहले स्टैमॉस Yahoo में सुरक्षा प्रमुख थे और कथितरूप से उस वक्त कंपनी को छोड़ा था जब इसके शीर्ष नेतृत्व ने अमेरिकी सरकार के आदेश पर एक गुप्त ईमेल सर्च टूल को स्वीकृति दे दी थी.

Google के शीर्ष सुरक्षा अधिकारी भी छोड़ रहे कंपनी

Facebook से स्टैमॉस के गुडबाय बोलने के बाद ही दुनिया की दिग्गज कंपनी Google से 2007 में जुड़ने वाले इंफॉर्मेशन सिक्योरिटी डायरेक्टर माइकल ज़ेलेव्सकी ने भी अपनी विदाई की घोषणा कर दी है.

ज़ेलेव्सकी को तकनीकी कंपनियों के बीच सबसे बड़े बग बाउंटी प्रोग्राम को स्थापित करने का श्रेय दिया जाता है. 2010 में शुरू किए गए Google Vulnerability Reward Program के अंतर्गत अब तक पेड रिसर्चर्स को 12 मिलियन अमेरिकी डॉलर से ज्यादा बग बाउंटी के रूप में दिए जा चुके हैं.

ज़ेलेव्सकी ने अपनी विदाई की सूचना माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म Twitter के जरिये देते हुए लिखा, "तो, तकरीबन 11 साल के बाद मैं इस महीने के अंत में Google को छोड़ने जा रहा हूं. यह काफी अच्छा अनुभव रहा." हालांकि ज़ेलेव्सकी ने अपनी भविष्य की योजना का खुलासा नहीं किया है.

Twitter के सुरक्षा अधिकारी भी छोड़ रहे हैं कंपनी

ज़ेलेव्सकी की घोषणा के एक दिन बाद ही माइक्रो ब्लॉगिंग साइट Twitter के चीफ इंफॉर्मेशन एंड सिक्योरिटी ऑफिसर (सीआईएसओ) माइकल कोएट्स ने भी इसी तरह की घोषणा की.

उन्होंने अपने ही प्लेटफॉर्म पर कंपनी को छोड़ने के फैसले का खुलासा करते हुए लिखा, "Twitter में काम करना अद्भुत सफर रहा, लेकिन जैसे मैंने कुछ सप्ताह पहले ही आंतरिक रूप से बताया था, मेरा वक्त खत्म हो रहा है. मुझे विश्वास है कि एक मैं एक गजब की सिक्योरिटी टीम के साथ इस प्रोग्राम को छोड़ रहा हूं. आगे क्या? मैं एक सिक्योरिटी स्टार्टअप की सह-स्थापना करने के लिए तैयार हूं- उम्मीद है कि जल्द ही हम क्या करने जा रहे हैं, इसकी जानकारी साझा करेंगे."

वैसे बता दें कि इन तीनों दिग्गज कंपनियों के शीर्ष सुरक्षा अधिकारियों की विदाई की खबरें उस वक्त सामने आ रही हैं जब अमेरिकी और यूरोपीय सरकारों ने आतंकी कंटेंट, राजनीतिक प्रचार, चुनाव में दखल और फेक न्यूज पर नकेल कसने के लिए इंटरनेट कंपनियों पर दबाव बनाना शुरू कर दिया है.

First published: 22 March 2018, 20:19 IST
 
अमित कुमार बाजपेयी @amit_bajpai2000

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

पिछली कहानी
अगली कहानी