Home » इंटरनेशनल » After Saudi Arabia Warning American Senate Passes Disputed Anti Terror Bill
 

सउदी के विरोध को दरकिनार कर सीनेट ने दी विवादास्पद विधेयक को मंजूरी

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 May 2016, 13:15 IST
QUICK PILL
  • अमेरिकी सीनेट ने उस सउदी  अरब के जबरदस्त विरोध के बावजूद उस बिल को पारित कर दिया है जो वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हुए हमले के पीड़ितों के परिजनों को सउदी अरब के खिलाफ मुकदमा करने की अनुमति देता है.
  • सउदी अरब ने अमेरिका के ट्रेजरी सिक्योरिटीज में 750 अरब डॉलर का निवेश कर रखा है, जिसे उन्होंने निकालने की धमकी दी है. सउदी सरकार को डर है कि कानून बनने की स्थिति में अमेरिकी सरकार इस रकम को जब्त कर लेगी.

अमेरिकी सीनेट ने उस सउदी अरब के जबरदस्त विरोध के बावजूद उस बिल को पारित कर दिया है जो वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हुए हमले के पीड़ितों के परिजनों को सउदी अरब के खिलाफ मुकदमा करने और हर्जाना मांगने की अनुमति देता है.

बिल के कानून बन जाने के बाद वर्ल्ड ट्रेंड सेंटर में मारे गए लोगों के परिजन सउदी सरकार से हर्जाने की मांग कर सकते हैं.

बिल को लेकर कड़ा विरोध जताते हुए सउदी अरब ने अमेरिका में अपने 750 अरब डॉलर के निवेश को वापस लेने की धमकी दी है. सीनेट की तरफ से बिल को मंजूरी देने के बाद इसे अब कांग्रेस में भेजा जाएगा. 

हालांकि व्हाइट हाउस का कहना है कि अमेरिकी राष्ट्रपति इस बिल के खिलाफ वीटो ताकत का इस्तेमाल करेंगे.

वीटो करेंगे आेबामा

अमेरिकी प्रशासन के अधिकारी इस बिल का विरोध करते रहे हैं. सीनेट की मंजूरी के बाद व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जोश अर्नेस्ट ने भी इसकी पुष्टि की. 

सउदी अरब ने अमेरिका के ट्रेजरी सिक्योरिटीज में 750 अरब डॉलर का निवेश कर रखा है, जिसे उन्होंने निकालने की धमकी दी है. सउदी सरकार को डर है कि कानून बनने की स्थिति में अमेरिकी सरकार इस रकम को जब्त कर लेगी. 

जस्टिस अगेंस्ट  स्पॉन्सर्स ऑफ टेररिज्म एक्ट को सीनेट से मंजूरी मिलने के बाद अर्नेस्ट ने कहा, 'हमने इस बिल को लेकर जो चिंताएं जाहिर की हैं उसे देखते हुए यह कल्पना करना मुश्किल है कि राष्ट्रपति इसे मंजूरी देंगे.' 

न्यूयॉर्क के डेमोक्रेट सीनेटर चक स्कमर का कहना है कि इस बिल की मदद से वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के पीड़ितों को न्याय मिलेगा

उन्होंने कहा कि किसी देश की संप्रभुता एक ऐसा सिद्धांत है जो हमारी सुरक्षा के लिए बेहद जरूरी है. अमेरिका दुनिया के अन्य देशों में दूसरे देशों से कहीं अधिक शामिल है.

सीनेट ने जिस बिल को मंजूरी दी है उसमें अमेरिका में किसी आतंकी हमले में अमेरिकी नागरिकों के मारे जाने की स्थिति में दूसरे देश की जवाबदेही तय करता है. 

अगर सीनेट के बाद इस बिल को कांग्रेस की मंजूरी मिल जाती है तो इसके बाद वर्ल्ड ट्रेड सेंटर हमले में सउदी अरब के खिलाफ मुकदमा चलाने का रास्ता साफ हो जाएगा.

न्यूयॉर्क के सीनेटर चक स्कमर ने इस बिल को सामने रखा है. चक डेमोक्रेट पार्टी के सीनेट हैं. उनका कहना है कि इस बिल से वर्ल्ड ट्रेंड सेंटर के पीड़ितों को न्याय दिलाने में मदद मिलेगी. उन्होंने कहा, 'अगर सउदी की आंतकी हमलों में कोई भूमिका नहीं है तो उन्हें डरने की बिलकुल जरूरत नहीं है.'

First published: 18 May 2016, 13:15 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी