Home » इंटरनेशनल » America declared hafiz saeed's milli muslim league as terror organization
 

झटका: हाफिज सईद नहीं लड़ पाएगा चुनाव, अमेरिका ने MML को घोषित किया आतंकी संगठन

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 April 2018, 9:43 IST

मुंबई हमले के मास्टरमाइंड और जमात-उद-दावा चीफ हाफिज सईद को बड़ा झटका लगा है. संयुक्त राष्ट्र अमेरिका ने हाफिज सईद की राजनीतिक पार्टी मिल्ली मुस्लिम लीग (एमएमएल) को विदेशी आतंकी संगठन घोषित कर दिया है. मंगलवार को अमेरिका ने एमएमएल को आतंकी संगठनों की लिस्ट में शामिल किया है.

अमेरिका ने एमएमएल को ऐसे समय पर आतंकी संगठन घोषित किया हैै, जब पाकिस्तान के चुनाव आयोग ने एमएमएल को एक राजनैतिक दल के रूप में पंजीकरण के लिए आंतरिक मंत्रालय द्वारा मिली मंजूरी प्रमाण पत्र पेश करने के लिए कहा था. इससे पहले चुनाव आयोग ने एमएमएल को एक राजनीतिक दल के रूप में पंजीकरण के लिए आवेदन को खारिज कर दिया था.

 

चुनाव आयोग ने अभी तक इसलिए पंजीकरण के आवेदन को खारिज किया था क्योंकि आंतरिक मंत्रालय ने प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों के साथ उसके संबंधों पर आपत्ति जताई थी. इसीलिए चुनाव आयोग ने उसे राजनीतिक दल के रूप में मंजूरी नहीं दी है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अमेरिका के राज्य विभाग ने आंतकी संगठनों की सूची में पाकिस्तान स्थित प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयब्बा (एलईटी) और तहरीक-ए-आज़ादी-ए कश्मीर (ताजक) को शामिल करने के लिए संशोधन प्रस्ताव पेश किया. इसके बाद हाफिज सईद के राजनीतिक संगठन मिल्ली मुस्लिम लीग के 7 सदस्यों को भी लश्कर की ओर से आतंकी गतिविधियों में शामिल होने की वजह से विदेशी आंतकी के रूप में घोषित कर दिया.

 

अमेरिकी विदेश मंत्रालय में आतंकवाद-निरोध समन्वयक नाथन ए. सेल्स ने कहा कि एमएमएल और टीएजेके दोनों ही लश्कर-ए-तैयबा के मोर्चा हैं और इनका गठन संगठन पर लगे प्रतिबंधों से बचने के लिए किया गया है. आज के संशोधनों का लक्ष्य प्रतिबंधों से बचने के लश्कर-ए-तैयबा के रास्तों को बंद करना और उसके झूठे चरित्र को लोगों के सामने लाना है.

पढ़े- भारत बंद: मायावती ने SC/ST एक्ट के विरोध में हो रही हिंसा पर दिया बड़ा बयान

इससे पहले पाकिस्‍तान में हाफिज सईद के संगठन जमात-उद-दावा को आतंकी संगठन घोषित कर दिया गया है. राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने एक ऐसे अध्यादेश पर हस्ताक्षर किया, जिसका उद्देश्य संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) द्वारा प्रतिबंधित व्यक्तियों और लश्कर-ए-तैयबा, अल-कायदा तथा तालिबान जैसे संगठनों पर लगाम लगाना है.

First published: 3 April 2018, 9:43 IST
 
अगली कहानी