Home » इंटरनेशनल » america deploy 8400 soldiers for taliban
 

अफगानिस्तान में 8400 सैनिक तैनात करेगा अमेरिका

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 July 2016, 14:39 IST
(एजेंसी)

अफगानिस्तान के आतंकी संगठन तालिबान पर नकेल कसने के लिए अमेरिका की ओबामा सरकार वहां 8400 सैनिकों की तैनाती करेगा.

इस मामले में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने “अनिश्चित” सुरक्षा और तालिबान की ओर से बढ़ते खतरे का जिक्र करते हुए घोषणा की, कि जब उनका कार्यकाल समाप्त होगा, तब अमेरिका अफगानिस्तान में 8400 सैनिकों को लगाएगा.

ओबामा ने ऐसा कहकर युद्ध प्रभावित अफगानिस्तान में 5500 सैनिक छोड़ने की अपनी पूर्ववर्ती योजना पलट दी है.

मूल योजना में बदलाव तब आया है जब ओबामा का राष्ट्रपति के तौर पर कार्यकाल जनवरी 2017 तक समाप्त होने के साथ ही अमेरिका, अफगानिस्तान में युद्ध समाप्त करने के अपने वादे को पूरा करते हुए वहां स्थिरता बनाये रखने के लिए संघर्ष कर रहा है.

राष्ट्रपति ओबामा ने कहा, "अफगानिस्तान में सुरक्षा स्थिति अनिश्चित बनी हुई है. मेरा दृढ़ता से मानना है कि यह हमारे राष्ट्रीय सुरक्षा हित में है. हमें अपने अफगान साझेदारों को सफल होने के लिए सर्वश्रेष्ठ मौका देना चाहिए."

ओबामा ने पड़ोसी देश पाकिस्तान का नाम लिए बिना क्षेत्र के देशों का आह्वान किया कि वे आतंकवादियों के सभी सुरक्षित पनाहगाह समाप्त करें.

ओबामा ने कहा, "निर्णय जो मैं आज कर रहा हूं, यह सुनिश्चित करता है कि मेरे उत्तराधिकारी के पास अफगानिस्तान में प्रगति के लिए एक ठोस आधार हो. साथ ही उभरने वाले आतंकवाद के खतरे से निपटने के लिए लचीलापन हो."

उन्होंने कहा, "मेरा दृढ़ता से यह मानना है कि जिस निर्णय की मैं घोषणा कर रहा हूं, वह करने के लिए सही चीज है."

अफगानिस्तान में वर्तमान में सैनिकों की संख्या 9800 है. यह निर्णय तब आया है जब अमेरिका की अगुवाई वाले नाटो मिशन के नये कमांडर जनरल जॉन निकोलसन ने इस वर्ष सुरक्षा स्थिति की एक समीक्षा की है.

ओबामा ने कहा, "तालिबान पूरे विश्व के लिए एक खतरा बना हुआ है. उन्होंने हमले और आत्मघाती हमले जारी रखे हैं, इसमें काबुल में होने वाले हमले भी शामिल हैं."

उन्होंने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा, "राष्ट्रपति और कमांडर इन चीफ होने के नाते मैंने स्पष्ट किया है कि मैं आतंकवादियों को हमारे देश पर फिर से हमला करने के लिए अफगानिस्तान को एक सुरक्षित पनाहगाह नहीं बनने दूंगा."

First published: 7 July 2016, 14:39 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी