Home » इंटरनेशनल » America ends india tax free status rating
 

अमेरिका दे सकता है भारत को झटका, इंडिया से छीन सकता है GSP सुविधा

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 March 2019, 8:49 IST

अमेरिका भारत के साथ GSP (जेनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ प्रेफरेंस) समाप्त करने का फैसला किया है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इसकी जानकारी अपनी संसद (कांग्रेस) को दे दी है. खबरों के मुताबिक, अमेरिका भारत के अलावा तुर्की के साथ भी कारोबारी संबंध तोड़ सकता है. ट्रंप के इस फैसले की जानकारी यूएस ट्रेड रिप्रेजेंटटेटिव रॉबर्ट लाइट्जर ने दी है.

ट्रम्प ने सोमवार को कांग्रेस को बताया, 'मैं प्राथमिकताओं के सामान्यीकरण प्रणाली (जीएसपी) कार्यक्रम के विकासशील देश के तौर पर भारत को प्राप्त उपाधि को समाप्त करने की सूचना प्रदान कर रहा हूं. मैं यह कदम इसलिए उठा रहा हूं क्योंकि अमेरिका तथा भारत सरकार के बीच मजबूत संबंध के बावजूद मैंने यह पाया है कि भारत ने अमेरिका को यह आश्वासन नहीं दिया है कि वह अपने बाजारों में उसकी न्यायसंगत और उचित पहुंच प्रदान करेगा.'

ट्रंप की ओर से इस फैसले पर साइन किए जाने के बाद 60 दिन का नोटिफिकेशन भेज दिया गया है. बता दें कि ये GSP समाप्त करने की वैध प्रक्रिया है. भारत और तुर्की के लगभग 2 हजार प्रोडक्ट हैं, जो इस फैसले से प्रभावित होंगे. इन प्रोडक्स में ऑटो पार्ट्स, इंडस्ट्रियल वॉल्व और टेक्सटाइल मैटीरियल प्रमुख हैं. ट्रंप चाहें तो अपने इस फैसला वापस ले सकते हैं, लेकिन इसके लिए भारत और तुर्की को अमेरिकी प्रशासन की चिंताओं को दूर करना होगा?

 

क्या है जीएसपी?

GSP एक अमेरिकी ट्रेड प्रोग्राम है, जिसके अंतर्गत अमेरिका विकासशील देशों में आर्थिक तरक्की के लिए अपने यहां बिना टैक्स सामानों का आयात करता है. अमेरिका ने दुनिया के 129 देशों को ये सुविधा दी है जहां से 4800 प्रोडक्ट का आयात होता है. अमेरिका ने ट्रेड एक्ट 1974 के तहत 1 जनवरी 1976 को GSP का गठन किया था.

F-16 के इस्तेमाल से अपनी ही जाल में फंसा पाकिस्तान, सबूत इकट्ठा करने में जुटा अमेरिका

 

First published: 5 March 2019, 8:49 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी