Home » इंटरनेशनल » America: massive firing on news paper capital gazette office 5 killed, Donald trump tweet
 

अमेरिका: सनकी शख्स ने अखबार के दफ्तर में की अंधाधुंध गोलीबारी, 5 लोगों की मौत

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 June 2018, 9:04 IST
(the Washington post)

अमेरिका में एक अखबार के ऑफिस को गोलियों का निशाना बनाया गया. गन कल्चर का शिकार हुए इस प्रसिद्ध अख़बार का ऑफिस अमेरिका के राज्य एनापोलिस की राजधानी मैरीलैंड में है. अमेरिकी अखबार कैपिटल गजट के दफ्तर में घुस कर एक व्यक्ति ने अंधाधुंध फायरिंग कर दी. जिससे 5 लोगों की मौत हो गयी और कई घायल हो गए. पुलिस के अनुसार इस फायरिंग में एक ही व्यक्ति शामिल था. पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है और पूछताछ जारी है.

इस फायरिंग में 5 लोगों की मौत की तो पुष्टि हुई है लेकिन घायलों की संख्या के बारे में कोई जानकारी नहीं मिल पाई है. पुलिस का कहना है की आरोपी से पूछताछ चल रही है लेकिन हमले के पीछे की वजह का पता नहीं चल पाया है. वहीं सुरक्षा को देखते हुए घटनास्थल पर बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात है. अखबार के दफ्तर को खाली कराया जा रहा है. गौरतलब है कि अखबार का ये दफ्तर एक मॉल में स्थित है. अखबार के कर्मचारी ने घटना की जानकारी देते हुए बताया कि हमलवार ने कांच के दरवाजे के पीछे से लोगों पर निशाना बनाकर फायरिंग शुरू की थी.

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने घटना को लेकर ट्वीट किया और घटना पर दुःख जताया.

 

काफी लोकप्रिय है कैपिटल गैजेट अखबार

गौरतलब है कि कैपिटल गजट अमेरिका के राज्य एनापोलिस का काफी लोकप्रिय अखबार है. ये अमेरिका का सातवां अखबार है. पहले ये अखबार साप्ताहिक था जिसे साल 1884 में रोजाना कर दिया गया. साथ ही ये अखबार अमेरिका के एक काफी पुराने अखबार से जुड़ा है जिसका नाम मेरीलैंड गजट था, ये अखबार अमेरिका में 1727 में प्रकाशित होता था.

अमेरिका के 90 प्रतिशत लोगों के पास है बन्दूक

अमेरिका में गन कल्चर को लेकर कोई न कोई घटना सामने आती रहती है. अमेरिका का गन कल्चर काफी मशहूर है, इसका कारण है अमेरिका में बहुत ही आसानी से बन्दूक का मिल जाना. अमेरिका में बन्दूक रखना बहुत ही आसान है यही कारण है कि यहां के 90 %  लोगों के पास बन्दूक पाई जाती है. अमेरिका में इस कारण कई बार शूटिंग की खबरें आती रहती हैं. आंकड़ों के अनुसार साल 2014 से अब तक 1363 मास शूटिंग की घटनाएं सामने आ चुकी हैं. जिनमे से तकरीबन 58 हजार लोगों ने अपनी जान गंवा दी है.

First published: 29 June 2018, 8:58 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी