Home » इंटरनेशनल » Amnesty says that Rohingyas militants had killed 99 Hindus in Myanmar in year 2018
 

रिपोर्ट में खुलासा, रोहिंग्या चरमपंथियों ने की 99 हिंदूओं की हत्या

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 May 2018, 15:45 IST

मानवाधिकार संस्था एमनेस्टी इंटरनेशनल की तरफ से बुधवार को एक रिपोर्ट जारी की गई है. इस रिपोर्ट में रोहिंग्या चरमपंथियों को लेकर खुलासा किया गया है. रिपोर्ट के अनुसार म्यांमार के रखाइन प्रांत में रोहिंग्या चरमपंथियों के आरसा नाम के एक संगठन ने दो नरसंहारों में 99 हिंदूओं को मार डाला था.

बता दें कि यह नरसंहार साल 2017 अगस्त में उत्तरी मौंगदा कस्बे के पास के गांवों में हुआ था. रिपोर्ट में इस बात का जिक्र है कि आरसा के सदस्यों ने 26 अगस्त को हिंदू गांव 'अह नौक खा मौंग सेक' पर भी हमला किया था.

इन हमलों को लेकर एमनेस्टी ने अधिक जानकारी ली तो इस हमले में बचे हुए हिंदुओं ने बताया कि, "इस क्रूर हमले में आरसा के सदस्यों ने बहुत सी हिंदू महिलाओं, पुरुषों और बच्चों को पकड़ा और गांव के बाहर ले जाकर मारने से पहले डराया था. हमने अपने परिवार को अपनी आंखों के सामने मरते हुए देखा और उनकी चीखें भी सुनीं हैं."

जब मानवाधिकार संस्था एमनेस्टी ने म्यांमार के रखाइन प्रांत के गांव अह नौक खा मौंग सेक की एक महिला से बात की तो उन्होंने इस नरसंहार को लेकर कहा, "उन्होंने पुरुषों को मार डाला. हमसे कहा गया कि उनकी तरफ़ न देखें. उनके पास खंजर थे. कुछ भाले और लोहे की रॉड्स भी थीं. हम झाड़ियों में छिपे हुए थे और वहां से कुछ-कुछ देख सकते थे. मेरे चाचा, पिता, भाई... सभी की हत्या कर दी गई."

ये भी पढ़ें: बला की खूबसूरत है पाक की ये पुलिस ऑफिसर, वायरल हो रही है तस्वीर

एमनेस्टी कि रिपोर्ट के अनुसार साल 2017 के सितंबर महीने में सामूहिक कब्रों से 45 लोगों के शव निकाले गए थे. मारे गए अन्य लोगों के शव अभी तक नहीं मिले हैं, जिनमें से 46 पड़ोस के गांव 'ये बौक क्यार' के थे.

First published: 23 May 2018, 15:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी