Home » इंटरनेशनल » Army base in Mazar-i-Sharif attacked by Taliban, 140 soldiers killed
 

अफ़गानिस्तान: सेना मुख्यालय पर सबसे बड़ा हमला, 140 जवान मरे

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 April 2017, 13:42 IST

 

तालिबान ने अफगानिस्तान के एक सेना मुख्यालय पर भीषण हमला किया है. इस हमले में कम से कम 140 जवानों के मारे जाने और कइयों के ज़ख़्मी होने की ख़बर है. यह हमला उत्तरी अफ़ग़ानिस्तान के शहर मज़ार-ए-शरीफ़ में हुआ है. अफगानिस्तान के इतिहास में सेना मुख्यालय पर तालिबान का यह अभी तक का सबसे बड़ा हमला है.


सेना के प्रवक्ता नसरतुल्लाह जमशीदी के मुताबिक हमला सेना मुख्यालय के अंदर बनी मस्जिद के पास हुआ. सेना के जवान उस वक़्त शुक्रवार की नमाज़ पढ़ने की तैयारी कर रहे थे. जमशीदी ने बताया, 'छह हमलावर मुख्यालय के मुख्य प्रवेश द्वार पर पहुंचे. सभी सेना की वर्दी में थे. उन्होंने प्रवेश द्वार पर मौजूद सुरक्षाकर्मियों से कहा कि उनकी गाड़ी के भीतर कई जवान ज़ख़्मी हालत में हैं जिन्हें तत्काल इलाज़ की ज़रूरत है. इसके बाद सुरक्षाकर्मियों ने मुख्यालय का मुख्य द्वार खोल दिया और आतंकी भीतर घुस गए.

वहीं अल जज़ीरा के संवाददाता मैकब्राइड के मुताबिक यह एक आत्मघाती हमला था. सबसे पहले एक फिदायीन ने मुख्यालय के मुख्य द्वार पर पहुंचकर ख़ुद को उड़ा लिया. इसके बाद बाक़ी आतंकी बेस के भीतर घुस गए. हमलावरों की कमर में बारूद के ज़ख़ीरे बंधे हुए थे और उनके पास ऑटोमेटिक बंदूकें थीं. आतंकी इस कोशिश में थे कि सेना के इस बेस में कितना ज़्यादा से ज़्यादा नुकसान पहुंचाया जा सकता है.

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता दौलत वज़ीरी ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया कि हमलावरों की संख्या 10 थी. इनमें से 7 आतंकी मुठभेड़ में मारे गए, दो ने ख़ुद को उड़ा लिया और एक दबोच लिया गया है.

मज़ार-ए-शरीफ़ स्थित यह बेस अफगानिस्तान नेशनल आर्मी की 209वीं कॉर्प्स का मुख्यालय है. उत्तरी अफगानिस्तान के ज़्यादातर हिस्सा की सुरक्षा व्यवस्था इसी 209वीं कॉर्प्स के ज़िम्मे है. यह इलाक़ा बुरी तरह सेना और तालिबानी लड़कों के संघर्ष की चपेट में है.

इस हमले की ज़िम्मेदारी लेते हुए तालिबान के प्रवक्ता ज़बीहुल्लाह मुजाहिद ने कहा है कि हमारे लड़ाकों ने अफगान सेना के मुख्यालय पर जानमाल की भारी क्षति पहुंचाई है.

 

 

First published: 22 April 2017, 13:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी