Home » इंटरनेशनल » Article 370: Pakistan Journalist slams PM Imran Khan on Jammu And Kashmir protest issue
 

इमरान खान ने देशवासियों से की थी प्रदर्शन की अपील, पाकिस्तानी पत्रकारों ने ही लगा दी क्लास

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 August 2019, 10:16 IST

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के अनुबंधों को कमजोर किए जाने के मुद्दे पर पाकिस्तान लगातार बौखलाहट दिखा रहा है. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री और कई मंत्री भारत को परमाणु हमले की धमकी भी दे चुके हैं. पाकिस्तान दुनिया के अन्य देशों के सामने गिड़गिड़ा भी रहा है. इसी मुद्दे पर आज पीएम इमरान खान ने देशवासियों से एक अपील की थी जिसे लेकर उन्हें अपने देश के ही पत्रकारों के कोपभाजन का शिकार करना पड़ा.

इमरान खान ने अपने देश के लोगों से अपील की है कि वह हर शुक्रवार को दोपहर 12 से 12.30 तक जहां भी हो वहां खड़े हो जाएं और प्रदर्शन करें. इमरान की इस अपील के बाद उनकी जमकर आलोचना हो रही है. पाकिस्तानी के ही पत्रकार इमरान को आईना दिखाने में जुटे हैं. इस पर कई पत्रकारों ने कहा कि इमरान खान को पहले ये देखना चाहिए कि वह अपने देश में क्या कर रहे हैं.

पाकिस्तानी पत्रकार नायला इनायत ने तंज कसते हुए लिखा, "ब्रेकिंग! भारत से आ रहे हवा और पानी को पाकिस्तान 12 से 12.30 के बीच रोकेगा." वहीं एक और पत्रकार आइमा ख़ोसा ने लिखा "इमरान खान को लगता है कि वह इस तरह की अपील करके लोगों को साथ जोड़ रहे हैं और अपनी ही सत्ता में चल रहे फासीवादी उत्पीड़न को छुपाने की कोशिश कर रहे हैं."

 

BJP ने की साध्वी प्रज्ञा ठाकुर की बोलती बंद, दी नसीहत- बेवजह की बयानबाजी मत करें

कैच ब्यूरो| Updated on: 30 August 2019, 10:15 IST
 

BJP के कई दिग्गज नेताओं के निधन के बाद भोपाल से सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने अजीबो-गरीब बयान दिया था. उन्होंने कहा था कि विपक्ष बीजेपी नेताओं पर मारक शक्ति का इस्तेमाल कर रहा है. उनके इस बयान के बाद बीजेपी बैकफुट पर आ गई थी. वहीं अब केंद्रीय नेतृत्व की तरफ से साध्वी प्रज्ञा को नसीहत दी गई है.

बीजेपी की तरफ से साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को बेवजह की बयानबाजी और विवादित बयान देने से बचने को कहा गया है. बीजेपी की तरफ से आगे इस तरह के बयान ना दोहराने की हिदायत भी दी गई है. दरअसल, मध्य प्रदेश के भोपाल से भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर शुरुआत से ही अपने विवादित बयानों के कारण चर्चा में रही हैं. इस कारण कई बार पार्टी की फजीहत हुई है.

 

पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली, पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर, पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी आदि बीजेपी के दिग्गज नेताओं का हाल में निधन हो गया है. इसे लेकर ही साध्वी प्रज्ञा ने विपक्ष द्वारा मारक शक्ति के इस्तेमाल का आरोप लगाया था.

इससे पहले साध्वी प्रज्ञा ने मुंबई हमले में शहीद हुए पुलिसकर्मी हेमंत करकरे को लेकर विवादित बयान दिया था. साध्वी ने कहा था कि करकरे ने उनके साथ काफी बुरा किया था, इसलिए उन्होंने उसे श्राप दिया था. जिसका असर उनपर हुआ और आतंकियों ने उन्हें मार दिया था. वहीं महात्मा गांधी की हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे को उन्होंने देशभक्त बताया था.

UN को लिखे पाकिस्तान के पत्र को भारत ने बताया फालतू, कहा- 'उतना भी मूल्य नहीं जितना कागज का है'

केजरीवाल सरकार का तोहफा, DTC बसों में महिलाओं की मुफ्त यात्रा पर दिल्ली कैबिनेट की मुहर

First published: 30 August 2019, 10:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी