Home » इंटरनेशनल » Associated Press reports that Hillary Clinton reaches number of delegates needed to clinch Democratic nomination
 

रिपोर्ट: हिलेरी क्लिंटन की उम्मीदवारी तय, व्हाइट हाउस की रेस में पहली महिला

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 June 2016, 11:03 IST
(फाइल फोटो)

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका की पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने जरूरी डेलीगेट की संख्या जुटा लेने के बाद डेमोक्रेटिक पार्टी से राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी अपने नाम कर ली है.

समाचार एजेंसी एसोसिएटेड प्रेस और यूएस नेटवर्क्स मुताबिक डेलीगेट्स ने राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी के लिए हिलेरी की दावेदारी पर प्रतिबद्धता जता दी है. वहीं रिपब्लिकन पार्टी की तरफ से डोनाल्ड ट्रंप की उम्मीदवारी पहले ही तय हो चुकी है.

राष्ट्रपति की रेस में पहली महिला

68 साल की हिलेरी क्लिंटन व्हाइट हाउस की रेस में शामिल पहली महिला होंगी. समाचार एजेंसी एपी ने क्लिंटन के पक्ष में डेलीगेट्स की संख्या 2383 बताई है. यह संख्या राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी के लिए पर्याप्त है.

कैलिफोर्निया की महत्वपूर्ण प्राइमरी से पहले हिलेरी क्लिंटन, दो प्राइमरी में अपने प्रतिद्वंद्वी बर्नी सैंडर्स को हरा चुकी हैं. हिलेरी ने प्यूर्तो रीको और यूएस वर्जिन द्वीप समूह पर सैंडर्स को करारी शिकस्त दी.

पढ़ें: राष्ट्रपति की दौड़: रिपब्लिकन उम्मीदवार बने डोनल्ड ट्रंप का 'विवादित सफर'

हिलेरी क्लिंटन के प्रचार अभियान के अध्यक्ष जॉन पोडेस्टा ने फॉक्स न्यूज को बताया, "हमें लगता है कि हमें मंगलवार रात को उतने डेलीगेट मिल जाएंगे, जितने हिलेरी को अमेरिका में किसी बड़ी पार्टी की पहली महिला उम्मीदवार बनाने के लिए जरूरी हैं." 

2383 डेलीगेट्स का मिला समर्थन

हिलेरी के पास इससे पहले 2354 डेलीगेट्स का समर्थन था. जॉन पोडेस्टा का कहना है, "हम चाहते हैं कि यह पार्टी एकजुट हो, क्योंकि देश के सामने डोनाल्ड ट्रंप के रूप में एक बड़ा खतरा मौजूद है. हम उम्मीद करते हैं कि वह हमारे साथ आएंगे."

डोनाल्ड ट्रंप आम चुनाव में रिपब्लिकन पार्टी के संभावित उम्मीदवार हैं. उन्होंने कहा कि ट्रंप द्वारा रिपब्लिकनों को एकजुट कर लिए जाने के बाद हिलेरी ने गुरुवार को सेन डिएगो में उन्हें अयोग्य बताने में कोई कसर नहीं छोड़ी.

हिलेरी क्लिंटन ने बताया कि आखिर क्यों डोनाल्ड ट्रंप कमांडर इन चीफ परीक्षा में खरे नहीं उतरते. उन्होंने कहा कि दीर्घकालिक तौर पर लोग यह देख पाएंगे कि ट्रंप में राष्ट्रपति और कमांडर इन चीफ बनकर काम करने वाली काबिलियत ही नहीं है.

जुलाई में अंतिम फैसला

हालांकि पार्टी उम्मीदवार पर अंतिम और निर्णायक फ़ैसला जुलाई में होने वाले डेमोक्रेटिक पार्टी के सम्मेलन में होगा. डेमोक्रेटिक प्रतिनिधियों के इस समर्थन के बाद हिलेरी ने अमेरिका के किसी प्रमुख राजनीतिक पार्टी की ओर से ओर चयनित पहली महिला उम्मीदवार बनने का श्रेय भी हासिल कर लिया है.

पढ़ें: ओबामा की ट्रंप को नसीहत, रिएलिटी शो नहीं राष्ट्रपति चुनाव

हिलेरी के प्रतिद्वंद्वी बर्नी सैंडर्स ने हालांकि हिलेरी की इस जीत पर सवाल खड़ा किया है. उन्होंने कहा कि हिलेरी अभी जीती नहीं हैं, क्योंकि उनका नामांकन अभी भी सुपरडेलिगेट्स के मतों पर निर्भर करता है. 

ये डेलिगेट्स जुलाई में होने वाले सम्मेलन में वोट करेंगे. जानकारों का मानना है कि हिलेरी की यह जीत इस लिहाज से भी ऐतिहासिक है, क्योंकि अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में किसी महिला को उम्मीदवार बनने में 227 साल का वक्त लग गया.

First published: 7 June 2016, 11:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी