Home » इंटरनेशनल » australian navy cadets told, in training they face sexual torcher
 

ऑस्‍ट्रेलिया: नेवी कैडेट्स ने सुनाई ट्रेनिंग के दौरान यौन यातना की कहानी

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 June 2016, 17:54 IST

ऑस्‍ट्रेलियाई नेवी के कुछ कैडेट्स ने भर्ती के बाद दी जाने वाली ट्रेनिंग को लेकर कुछ सनसनीखेज खुलासे किए हैं. उन्‍होंने एक कमीशन को बताया है कि ट्रेनिंग के दौरान उनके साथ यौन दुर्व्यवहार किया जाता था.

कैडेट्स ने कमीशन को बताया कि उन्‍हें एक-दूसरे का रेप करने के लिए मजबूर किया गया. ट्रेनिंग की शुरुआत में ट्रेनिंग अधिकारी उन्हें प्राइवेट पार्ट्स पर शूू पॉलिश लगाने को कहते हैं. इसको वे ‘ब्‍लैकबॉलिंग’ कहते हैं.

इसके अलावा उनके सिरों को टॉयलेट्स में डालकर फ्लश चलाया जाता था. वे इसे ‘रॉयल फ्लश’ कहते थे. कैडेट्स का दावा है कि ऐसा बर्ताव करने वाले लोग इन हरकतों को ‘मर्द बनने का तरीका’ करार देते थे.

एक पूर्व नेवी मेंबर ने बताया कि एक रात उसे बिस्‍तर से उठा लाया गया और पूरी ट्रेनिंग के दौरान उसके साथ कई बार यौन उत्‍पीड़न हुआ. कैडेट ने एक समाचार चैनल से बातचीत में बताया कि, ‘कई मौकों पर वे मुझे बीच रात को बिस्‍तर से खींच कर खेल के मैदान में ले गए.’

एक अन्‍य कैडेट ने बताया कि, ‘उसे एक दूसरे रंगरूट का प्राइवेट पार्ट मुंह में लेने को कहा गया. इसके अलावा उसे दूसरे जूनियर रिक्रूट के प्राइवेट पार्ट में मुंह लगाने के लिए मजबूर किया गया. कुछ अन्‍य मौकों पर मुझे जूनियर रिक्रूट्स के साथ अप्राकृतिक यौन संबंध बनाने के लिए मजबूर किया गया या फिर कुछ रंगरूटों ने मेरा रेप किया, क्‍योंकि पुराने रंगरूट्स या बेस स्‍टाफ ने ऐसा करने का आदेश दिया था.’

ऑस्‍ट्रेलियाई रॉयल कमीशन ने उस किशोरी की मौत के मामले पर भी सुनवाई की, जिसे कथित तौर पर अपने इंस्‍ट्रक्‍टर के साथ शारीरिक संबंध रखने की वजह से धमकी दी गई थी.

15 साल की उस लड़की का नाम इलेनोर टिब्‍बल था. उसके कथित तौर पर अपने 30 वर्षीय इंस्‍ट्रक्‍टर के साथ शारीरिक संबंध थे. आरोप है कि इसी वजह से उसे बार-बार धमकाया जा रहा था. जिसके कारण बाद में उसने आत्‍महत्‍या कर ली. गौरतलब है कि ऑस्‍ट्रेलियाई रॉयल कमीशन की स्‍थापना साल 2012 में हुई थी, तब से उसके खिलाफ इस तरह की  करीब 24 हजार शिकायतें मिली हैं. उसके बाद से कमीशन ने 111 लोगों की शिकायतें सुनी हैं. उनका दावा है कि कुछ पूर्व कैडेट्स ने बताया कि उन्‍हें ऑस्‍ट्रेलियन डिफेंस फोर्स (एडीएफ) में ट्रेनिंग के दौरान शारीरिक और मानसिक शोषण से गुजरना पड़ा था.

First published: 24 June 2016, 17:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी