Home » इंटरनेशनल » Balakot Airstrike: Pakistan running terrorist training center in Balakot
 

बालाकोट में पाकिस्तान ने फिर शुरु की 'नफरत की पाठशाला', मदरसों की आड़ में चला रहा आतंक के अड्डे

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 February 2020, 8:45 IST

After one year of Balakot Airstrike: पाक अधिकृत कश्मीर (PoK) के बालाकोट (Balakot) में हुई एयरस्ट्राइक (Airstrike) को आज एक साल पूरा हो गया. भारतीय वायु सेना (Indian Air Force) के विमानों (Plane) ने एक साल पहले आज ही के दिन यानी 26 फरवरी को पीओके में एयरस्ट्राइक कर पाकिस्तान के कई आतंकी ठिकानों (Terrorist Camp) को नष्ट कर दिया था, लेकिन एक साल बीतने से पहले ही पाकिस्तान (Pakistan) ने इन आतंकी ठिकानों को दोबारा स्थापित कर दिया. पाकिस्तान ने बालाकोट (Balakot) में एक बार फिर से आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (JeM) और लश्कर-ए-ताइबा (LaT) के मिले-जुले शिविर शुरू कर दिए हैं. इन शिविरों को अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों की नजर से बचाने के लिए पाकिस्तान ने बड़ी चाल चली है इसके लिए वह यहां मदरसों का सहारा ले रहा है. पाकिस्तान ने आतंकी शिविरों पर मदरसों के बोर्ड लगा रखे हैं.

भारतीय सुरक्षा एजेंसियों को जानकारी है कि इन शिविरों की सुरक्षा पाकिस्तान की सेना ने संभाल रखी है. सुरक्षा एजेंसियों से जुड़े सूत्रों का कहना है कि आईएसआई के निर्देश पर जैश व लश्कर दोनों के संयुक्त प्रशिक्षण शिविर बालाकोट में फिर खोल दिए गए हैं. साथ ही इस पूरे इलाके में आम लोगों की आवाजाही पर रोक लगा दी गई है. कोई भी व्यक्ति इन शिविरों के आसपास नहीं जा सकता. जिससे उनके नापाक मंसूबों की किसी को भनक तक न लगे. बताया जा रहा है कि पाकिस्तान की साजिश है कि यहां से आतंकियों को प्रशिक्षित कर उन्हें लॉन्चिंग पैड के जरिये अधिक से अधिक संख्या में सीमा पार भेजा जा सके.


सूत्रों के मुताबिक, इन कैंपों की सुरक्षा में 24 घंटे पाकिस्तानी सेना तैनात रहती है. वह हर गतिविधियों पर निगाह भी रखे हुए हैं. बता दें कि हाल ही में हाफिज सईद का रिश्तेदार जकीउर रहमान लखवी बालाकोट में देखा गया. सूत्रों का कहना है कि जैश-लश्कर कमांडरों तथा आईएसआई के साथ उसकी बैठक भी हुई. इसमें घुसपैठ को तेज करने तथा एलओसी पर बैट हमले को अंजाम देने की साजिश पर बात हुई थी.

सूत्रों का कहना है कि बालाकोट एयर स्ट्राइक की बरसी पर एलओसी पर बैट हमले की साजिश को अंजाम दिया जा सकता है. इस वजह से एलओसी पर भारत की ओर से सतर्कता भी बढ़ा दी गई है. हालांकि बालाकोट की बरसी से पाकिस्तान घबराया हुआ है. उसे शक है कि भारत दोबारा इसी तरह का हमला न कर दे. इस वजह से वह ड्रोन की मदद से एलओसी तथा आसपास के इलाकों की सर्विलांस कर रहा है. ड्रोन दिन-रात दोनों ही समय सीमा पर घूमते देखे जा सकते हैं.

CAA को लेकर देश में हो रहे प्रदर्शन पर जब पत्रकारों ने पूछा सवाल तो डोनाल्ड ट्रंप का ये था जवाब

हिंसा के बाद दिल्ली के हालात बेकाबू, यमुनापार के तीनों जिलों में हाई-अलर्ट घोषित

नई रिपोर्ट में खुलासा : दुनियाभर के प्रदूषित शहरों की लिस्ट में भारत के सबसे ज्यादा

First published: 26 February 2020, 8:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी