Home » इंटरनेशनल » Brahamdagh Bugti: We have decided that we will formally file asylum papers to Indian Govt
 

बलोच नेता बुगती ने बढ़ाई पाक की मुसीबत, भारत में शरण लेने के लिए करेंगे आवेदन

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 5:48 IST
(एएनआई)

15 अगस्त को पीएम मोदी ने अपने संबोधन में बलोचिस्तान का मुद्दा उठाया था. पीएम के इस बयान का बलोच नेताओं ने स्वागत किया था. खास तौर पर बलोच रिपब्लिकन पार्टी के नेताओं ने पीएम मोदी की पहल पर खुशीू जताई थी.

हाल ही में पाकिस्तानी मीडिया से खबर आई थी कि बलोच नेता ब्रह्मदाग बुगती मोदी सरकार से भारत में शरण के लिए अपील करने वाले हैं. अब बलोच रिपब्लिकन पार्टी के नेता ब्रह्मदाग बुगती ने औपचारिक रूप से एलान किया है कि भारत में शरण लेने के लिए वह आवेदन दाखिल करेंगे.

वहीं बलोच नेता ने पाकिस्तान की मुश्किलों में एक और इजाफा किया है. बलोच रिपब्लिकन पार्टी ने फैसला लिया है कि पाकिस्तानी सेना के अधिकारियों के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय अदालत में आपराधिक मामला चलाने की अपील की जाएगी.

चीन को भी घेरेंगे

यही नहीं बलोच रिपब्लिकन पार्टी अब चीन को भी अंतरराष्ट्रीय मंच पर घेरने की तैयारी में है. पार्टी ने तय किया है कि चीन के खिलाफ भी अंतरराष्ट्रीय न्यायलय में केस दाखिल किया जाएगा. पार्टी इसके लिए भारत, अफगानिस्तान या बांग्लादेश से संपर्क करेगी. 

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान ब्रह्मदाग बुगती ने कहा, "हमने फैसला लिया है कि भारत में शरण लेने के लिए हम औपचारिक रूप से भारत सरकार को दस्तावेज सौंपेंगे. हमने इस पर अभी से काम शुरू कर दिया है."

बुगती ने बताया, "हम भारतीय दूतावास जाएंगे. इस सिलसिले में जो भी कानूनी प्रक्रिया है, हम उसका पालन करेंगे."

जेनेवा में पाक विरोधी प्रदर्शन

इस बीच जेनेवा में पाकिस्तान विरोधी प्रदर्शन किए गए. पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में पाकिस्तानी प्रशासन के उत्पीड़न के खिलाफ लोग सड़क पर उतरे.

यूनाइटेड कश्मीर पीपुल्स नेशनल पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पाक अधिकृत कश्मीर, गिलगित और बाल्टिस्तान में मानवाधिकार उल्लंघन के आरोप लगाते हुए विरोध प्रदर्शन किया. इसके अलावा सिंधी समाज के लोगों ने भी प्रदर्शन में हिस्सा लिया.

साथ ही प्रदर्शनकारियों ने पाक अधिकृत कश्मीर के गिलगित और बाल्टिस्तान में राजनीतिक बंधियों की रिहाई की मांग करते हुए पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों पर अत्याचार का आरोप लगाया.

एएनआई
एएनआई
First published: 19 September 2016, 4:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी