Home » इंटरनेशनल » Bangladesh: Another attack on a hindu priest, condition critical
 

बांग्लादेश: एक और हिंदू पुजारी पर जानलेवा हमला

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 July 2016, 12:57 IST
(प्रतीकात्मक)

बांग्लादेश पिछले दो दिनों से चरमपंथियों के हमले से थर्राया हुआ है. शुक्रवार रात ढाका में आतंकी हमला और एक हिंदू पुजारी की हत्या के बाद भी बांग्लादेश में हिंदू पुजारियों पर हमले के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे है.

शनिवार तड़के बांग्लादेश में एक और हिंदू पुजारी भाबासिंधु रॉय पर कुछ अज्ञात लोगों ने हमला कर दिया है. पुजारी भाबासिंधु रॉय की हालत गंभीर बनी हुई है. उन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवाया गया है.

दो दिन में दूसरी वारदात

बीते दो दिनों में हिंदू पुजारी पर हमले की ये दूसरी घटना है. वहीं पिछले दो महीने में हिंदू पुजारियों पर हमले की यह सातवीं घटना है.

पुलिस ने बताया कि सत्खिरा जिले में श्री श्री राधा गोविंद मंदिर के भाबासिंधु रॉय पर उस समय मंदिर में हमला किया गया जब वह सो रहे थे.

सत्खिरा पुलिस के डिप्टी चीफ अतकुल हक के मुताबिक, "बदमाशों ने रॉय के सीने और पीठ पर धारदार हथियार से हमला किया. उन्हें ढाका के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है. उनकी हालत गंभीर है."

पीड़ित की पत्नी के हवाले से पुलिस ने बताया कि घटनास्थल पर किसी के पहुंचने से पहले ही हमलावर वहां से फरार हो गए.

अतकुल की मानें तो हाल ही में हिंदुओं पर हुए हमले में संदिग्ध आतंकियों का हाथ हो सकता है. जानकारी के मुताबिक, रॉय पर राजधानी ढाका के रेस्त्रां में आतंकी हमले के थोड़ी देर बाद ही हुआ. जहां बंधक बनाए गए 13 लोगों को छुड़ा लिया गया है.

अल्पसंख्यकों पर हमलों की बाढ़

इससे पहले बांग्लादेश में अल्पसंख्यक समुदाय पर हो रहे हमलों की कड़ी में शुक्रवार सुबह एक मंदिर के अंदर हिंदू पुजारी की हत्या कर दी गई. मृतक का नाम श्यामनंदो दास था और उनकी उम्र 45 साल थी.

राजधानी ढाका से 300 किलोमीटर की दूरी पर स्थित झिनाइदा जिले के मुख्यालय में एक मंदिर के सामने तडक़े सुबह कुल्हाड़ी से काटकर श्यामनंदो की हत्या कर दी गई.

मुस्लिम बहुल बांग्लादेश में धर्मनिरपेक्ष,उदारवादी कार्यकर्ताओं और धार्मिक अल्पसंख्यकों पर हाल में कई हमले हुए हैं.

इस तरह की कुछ हत्याओं की जिम्मेदारी आईएस ने ली है, लेकिन सरकार बांग्लादेश में आईएस की मौजूदगी से इनकार करती आई है. सरकार का कहना है कि इन हत्याओं के पीछे बांग्लादेशी कट्टरपंथियों का हाथ है.

First published: 2 July 2016, 12:57 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी