Home » इंटरनेशनल » Boko Haram Violence Forces More Than 1 Million Children From School
 

बच्चों पर बेरहम बोको हरम: 10 लाख बच्चों ने स्कूल छोड़ा

अभिषेक पराशर | Updated on: 24 December 2015, 12:27 IST
QUICK PILL
  • यूनिसेफ की रिपोर्ट के मुताबिक नाइजीरिया और उके पड़ोसी देशों में बोको हरम के आंतक से करीब 10 लाख से अधिक बच्चे स्कूल छोड़ने को मजबूर हो चुके हैं.
  • पूर्वोत्तर अफ्रीका में काम करने वाले इस आतंकी संगठन ने पिछले साल एक साथ 219 स्कूली छात्राओं का अपहरण कर दुनिया को दहशत में डाल दिया था.

अफ्रीका में बोको हरम के नाम से आतंक के भी पसीने छूटने लगते हैं. इस दुर्दांत आतंकी संगठन की फेहरिस्त में हिंसक हमलों की भरमार है. 

बोको हरम खासकर बच्चों और महिलाओं को निशाना बनाता रहा है जिसकी वजह से बच्चों ने स्कूल जाना छोड़ दिया है. यूनिसेफ की रिपोर्ट की माने तो पूर्वोत्तर अफ्रीका में बोको हरम के हमलों और शिक्षा विरोधी फरमान के चलते करीब 10 लाख से अधिक स्कूली बच्चे स्कूल छोड़ने को मजबूर हो चुके हैं. 

एमनेस्टी इंटरनेशनल के आंकड़े भी इसकी पुष्टि करते हैंं. संगठन के मुताबिक बोको हरम ने पिछले साल की शुरुआत से लेकर अब तक कम से कम 2,000 से अधिक महिलाओं का अपहरण किया है जिनमें नाइजीरिया की 219 स्कूली छात्राएं भी हैं जिन्हें इस आतंकी संगठन ने एक साथ अगवा किया था. 

Boko haram3

बोको हरम खासकर बच्चों और महिलाओं को निशाना बनाता रहा है जिसकी वजह से बच्चों ने स्कूल जाना छोड़ दिया है

पहली बार बोको हरम दुनिया की नजरों में बीते साल 14 अप्रैल को आया था. इस दिन बोको हरम के आतंकियों ने नाइजीरिया के बारनो राज्य के चिबॉक शहर में एक स्कूल पर धावा बोलकर 219 स्कूली छात्राओं को एक साथ अगवा कर लिया था.

एमनेस्टी की रिपोर्ट यह बताती है कि बोको हरम ने कितने लोगों का अपहरण किया, इसका अंदाजा लगाना असंभव है. एक साल पहले स्कूली छात्राओं को अगवा किए जाने के बाद नाइजीरिया की सेना ने यह कहा था कि उन्हें छात्राओं के ठिकाने के बारे में पता है लेकिन सुरक्षा कारणों से उन्होंने बचाव अभियान चलाने से इनकार कर दिया था.

खौफ से बंद होने लगे स्कूल

बोको हरम का सपना नाइजीरिया में आईएसआईएस की तर्ज पर इस्लामी सरकार की स्थापना करना है. पिछले छह सालों में यह आतंकी संगठन हजारों लोगों को मौत के घाट उतार चुका है. आईएसआईएस को समर्थन देने वाला बोको हरम कई स्कूलों पर हमला कर उसे आग के हवाले कर चुका है.

यूनिसेफ की रिपोर्ट के मुताबिक इस आतंकी संगठन के लगातार होने वाले हमलों की वजह से नाइजीरिया, कैमरन, चाड और नाइजर में करीब 2,000 से अधिक स्कूल बंद हो चुके हैं. रिपोर्ट बताती है कि कई स्कूलों में पिछले एक साल से ताला लगा हुआ है.

यूनिसेफ के पश्चिमी और मध्य अफ्रीका के क्षेत्रीय निदेशक मैनुअल फॉन्टेन बताते हैं, 'यह आंकड़ा चौंकाने वाला है.' उन्होंने कहा, 'हिंसक झड़पों की वजह से इस क्षेत्र की शिक्षा व्यवस्था को गहरा धक्का लगा है और हिंसा की वजह से कई बच्चे पिछले एक साल से स्कूल से बाहर हैं.'

पश्चिमी शिक्षा को पाप मानता है हरम

बोको हरम का शाब्दिक अर्थ है पश्चिमी शिक्षा और जीवन पद्धिति पाप तुल्य है. पूर्वोत्तर नाइजीरिया इस आतंकी संगठन का गढ़ है. वृहत्तर इस्लामिक राज्य के सपने को पूरा करने के अपने मिशन के तहत इसने पड़ोसी देशों कैमरन, चाड और नाइजर में भी अपनी स्थिति मजबूत की है.

रिपोर्ट बताती है कि मजूदा हिंसक संघर्ष का असर करीब 1.1 करोड़ बच्चों पर पड़ा है जो पहले से ही नाइजीरिया, कैमरन, चाड और नाइजर के स्कूलों से बाहर हो चुके हैं. हालांकि अक्टूबर के बाद से नाइजीरिया के बारनो राज्य में 400 से अधिक स्कूलों को फिर से खोला भी गया है. 

2013 में बारनो राज्य में एक स्कूल पर बोको हरम ने हमला कर 59 छात्रों को मौत के घाट उतार दिया था

फॉन्टेन बताते हैं, 'हम स्कूली शिक्षा में बिना बाधा पहुंचाए बच्चों को सुरक्षित रखने की चुनौती का सामना कर रहे हैं. स्कूल आतंकी हमलों का निशाना रहे हैं इसलिए बच्चे अब वहां नहीं जाना चाहते. अगर उन्हें लंबे समय तक स्कूल से दूर रखा गया तो उनके अपहरण या फिर हथियारबंद समूहों के साथ जुड़ जाने का खतरा है.'

First published: 24 December 2015, 12:27 IST
 
अभिषेक पराशर @abhishekiimc

चीफ़ सब-एडिटर, कैच हिंदी. पीटीआई, बिज़नेस स्टैंडर्ड और इकॉनॉमिक टाइम्स में काम कर चुके हैं.

पिछली कहानी
अगली कहानी