Home » इंटरनेशनल » Cash reward on child birth in Nagi city of Japan to save the population in the country
 

इस शहर के लोगों को बच्चा पैदा करने पर मिल रहा नकद इनाम, सरकार दे रही ढाई लाख रुपये

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 December 2018, 13:19 IST

आपने अब तक जनसंख्या वृद्धि में रोक लगाने को लेकर ही सरकार के आदेश के बारे में सुना और पढ़ा होगा, लेकिन क्या कभी किसी देश में ज्यादा बच्चे पैदा करने के आदेश के बारे में सुना है. नहीं तो चलिए आज हम आपको बताने जा रहे हैं ऐसे ही एक देश के बारे में जो ना सिर्फ अपने देश के लोगों को ज्यादा बच्चे पैदा करने को कह रहा है बल्कि बच्चे पैदा करने पर उन्हें इनाम भी दे रहा है.

दरअसल, जापान अपने यहां जवान और बच्ची की संख्या में लगातार हो रही कमी से जूझ रहा है. इसीलिए यहां बुजुर्गों की संख्या में तेजी से वृद्धि हो रही है. यहां जन्म दर दिन ब दिन कम हो रही है. जापान के एक शहर ने इस समस्या से निपटने के लिए कई कदम उठाए हैं. यह शहर बच्चा पैदा करने वाले अपने नागरिकों को तमाम तरह की सुविधाओं के साथ-साथ नकद इनाम भी दे रहा है.

बता दें कि दक्षिणी जापान में बसे नागी शहर की आबादी केवल 6000 है. ये शहर एक कृषि प्रधान शहर है. शहरों की भागदौड़ और तनाव से दूर यहां शांति है और लोगों की प्राथमिकता पैसा नहीं बल्कि अच्छा जीवन है. प्रशासन भी इस प्रयास में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेता है. साल 2004 से यहां बच्चा पैदा करने के लिए इनाम के तौर पैसा देकर लोगों को प्रोत्साहित किया जा रहा है.

बच्चों की संख्या के मुताबिक इनाम

नागी शहर में बच्चों की संख्या के मुताबिक लोगों को इनाम दिया जाता है. अगर परिवार में पहला बच्चा पैदा होता है, तो सरकार की ओर से एक लाख येन यानि करीब 63 हजार रुपये दिए जाते हैं. वहीं दूसरा बच्चा पैदा होने पर 1,50,000 येन यानि करीब 95,000 रुपये और परिवार में पांचवां बच्चा पैदा होने पर 4 लाख येन यानि करीब 2.5 लाख रुपये इनाम के तौर पर दिए जाते हैं. यही नहीं इसके अलावा सस्ते दाम पर घर, मुफ्त टीकाकरण, स्कूल दाखिले में भी छूट जैसी सुविधाएं दी जाती हैं.

बता दें कि प्रशासन की इन कोशिशों की वजह से इस शहर की जन्म दर में बढ़ोतरी हुई है. बता दें कि साल 2005 से 2014 के बीच इस शहर में एक महिला द्वारा अपने जीवनकाल में औसत बच्चे पैदा करने की दर 1.4 से बढ़कर 2.8 तक दर्ज की गई है. हाल ही में हालांकि इस दर में थोड़ी गिरावट यानि 2.39 दर्ज की गई है. हालांकि इसके बावजूद यहां राष्ट्रीय दर 1.46 से काफी ज्यादा है.

इस शहर में संयुक्त परिवार को दी जाती है प्राथमिकता

यही नहीं इस शहर के लोग परिवार के साथ रहना पसंद करते हैं. 30 की उम्र से पहले ही शादी कर परिवार बसाने के बाद वे माता-पिता के साथ ही रहना चाहते हैं. दादा-दादी के साथ होने से बच्चों की देखभाल की चिंता भी नहीं सताती. इसके अलावा महिलाओं के लिए खासतौर से यहां पार्ट टाइम नौकरी की भी व्यवस्था है.

ये भी पढ़ें- शख्स ने घर के बाहर देखा एलियन, भेज रहा था धरती के बारे में जानकारी, ईमेल भेजकर PMO को बताई ये बात

बुढ़ापे की ओर तेजी से बढ़ रहे जापान के लोग

बता दें कि बढ़ी संख्या में जापान की आबादी बुढ़ापे की ओर बढ़ रही है. यहां 12.3 फीसदी बच्चों की आबादी है. वहीं जापान की 20 फीसदी आबादी 65 साल से ज्यादा उम्र की है. जापान में इस साल अब तक 9,21,000 बच्चे पैदा हो चुके हैं. जो पिछले साल की तुलना में 25,000 कम है. वहीं जापान में इस साल 13 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो गई.

ये भी पढ़ें- वैज्ञानिकों ने 50 साल पहले उगाया था ये जंगल, अब यहां जाने के नाम से थर-थर कांपते हैं लोग

ये भी पढ़ें- कंपनी ने लड़की के इस खास अंग की 9 करोड़ रुपये लगाई कीमत, वजह जानकर रह जाएंगे दंग

First published: 29 December 2018, 13:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी