Home » इंटरनेशनल » Cell phone of an Indian diplomat, who went to Islamabad HC to file writ petition on Uzma matter, seized.
 

उज़मा मामला: इस्लामाबाद में भारतीय डिप्लोमैट का फ़ोन ज़ब्त

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 May 2017, 14:56 IST

शुक्रवार को उज़मा मामले की इस्लामाबाद की अदालत में सुनवाई के दौरान पाकिस्तानी अफसरों ने इंडियन डिप्लोमैट के फोन को जब्त कर लिया है. भारतीय महिला उजमा और एक पाकिस्तानी शख्स की शादी के मामले की सुनवाई के दौरान ये सब हुआ.

जानकारी के मुताबिक शुक्रवार को उजमा मामले की इस्लामाबाद की अदालत में सुनवाई हो रही थी. वहां इंडियन डिप्लोमैट अपने मोबाइल फोन के साथ गया था. पाकिस्तानी अफसरों ने उसका मोबाइल जब्त कर लिया. डिप्लोमैट पर आरोप है कि वो कोर्ट में जज का फोटो खींचने की कोशिश कर रहा था, जिसकी इजाजत अदालत में नहीं होती है. 

भारतीय उच्चायोग इस मामले की जानकारी जुटा रहा है.  इस मामले पर भारतीय उच्चायोग ने पाकिस्तान के दावे को सिरे से खारिज कर दिया है. भारतीय उच्चायोग को अधिकारियों कहना है कि उसके डिप्लोमैट का फोन जल्द वापस लौटाया जाए. वह ऐसा कुछ भी नहीं कर रहा था, जिसका आरोप लगाया जा रहा है.

क्या है उज्मा का मामला?

पाकिस्तान में उजमा नाम की एक भारतीय महिला से एक पाकिस्तानी डॉक्टर ने कथित तौर पर जबरन शादी की है. इसी मामले की सुनवाई इस्लामाबाद की अदालत में हो रही है. बता दें कि दिल्ली की उजमा भारतीय नागरिक हैं. उसने पिछले दिनों भारतीय उच्चायोग में शरण ली थी. उसने भारतीय अफसरों को बताया था कि कैसे एक पाकिस्तानी नागरिक के साथ शादी करने के लिए उसे बंदूक तानकर मजबूर किया गया.

उजमा का आरोप है कि उसे हिंसा और यौन उत्पीड़न का सामना करना पड़ा था. उजमा ने इस्लामाबाद अदालत में अपने पति ताहिर अली के खिलाफ याचिका दायर की है, उसने अपने पति पर प्रताड़ना और धमकाने का आरोप लगाया है. महिला ने मजिस्ट्रेट के समक्ष अपना बयान भी रिकॉर्ड कराया है.

अदालत के एक अधिकारी ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया कि महिला ने मजिस्ट्रेट से कहा कि वह शादी के लिए नहीं, बल्कि अपने रिश्तेदारों से मिलने के लिए पाकिस्तान आई थी.

First published: 12 May 2017, 14:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी