Home » इंटरनेशनल » China defends blocking UN ban on Masood Azhar
 

मसूद अजहर आतंकवादी नहीं: चीन

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 April 2016, 19:13 IST

संयुक्त राष्ट्र में चीन के स्थाई प्रतिनिधि लियु जीयी ने पठानकोट आतंकी हमले के आरोपी मसूद अजहर को आतंकवादी मानने से इंकार किया है.

शनिवार को बीजिंग के दावे को दोहराते हुए लियु जीयी ने कहा कि पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) का प्रमुख मसूद अजहर आतंकवादी होने के लिए निर्धारित सुरक्षा परिषद के मानक पूरे नहीं करता है.

जब लियु से पूछा गया कि अजहर कैसे आतंकवादी नहीं है तो उन्होंने कहा, 'संयुक्त राष्ट्र की प्रतिबंध सूची में किसी व्यक्ति और संगठन को तब शामिल किया जाता है, जब वह उसकी शर्ते पूरी करता है. यह परिषद के सभी सदस्यों का दायित्व है कि वे सुनिश्चित करें कि शर्तों का पालन हो.'

गौरतलब है कि जनवरी महीने में पठानकोट एयरबेस में हुए हमले के बाद भारत ने मसूद अजहर को आंतवादियों की सूची में शामिल करने के लिए फरवरी में संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंध समिति से आग्रह किया था. इस समिति में चीन समेत 15 देश शामिल हैं.

पिछले सोमवार को संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंध समिति की बैठक में 14 सदस्य अजहर को आतंकवादियों की सूची में रखने पर सहमत थे, लेकिन चीन ने अड़ंगा लगा दिया. भारत ने चीन की रोक को छिपे हुए वीटो की संज्ञा दी है.

मसूद अजहर पर चीन के वीटो केे बाद भारत ने जतायी निराशा

इस मामले में भारत की ओर से दिये गये बयान में कहा गया था कि साल 2001 से जैश संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैन लिस्ट में शामिल है क्योंकि वो आतंकी संगठन है और उसके अल-कायदा से लिंक हैं. लेकिन तकनीकी कारणों से जैश के मुखिया मसूद अजहर पर बैन नहीं लगाया जा सका.

भारत ने अपने बयान में आगे कहा कि इस तरह के आतंकी संगठनों को बैन न किए जाने का खमियाजा पूरी दुनिया को उठाना पड़ सकता है.

वहीं इस मामले में यूएन में भारत के स्थाई प्रतिनिधि सैय्यद अकबरुद्दीन ने कहा, 'इस मसले को हम ऐसे छोड़ने वाले नहीं हैं. हम यूएन में मसूद को बैन करवाने की पूरी कोशिश करेंगे.'

First published: 2 April 2016, 19:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी