Home » इंटरनेशनल » China deploys fighter jets for Pakistan National Day air show
 

अमेरिकी F-16 के बाद अब पाकिस्तान में दिखाई देगा चीन का फाइटर जेट J-10

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 March 2019, 12:10 IST

 

भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव के चलते पहली बार चीन का फाइटर जेट 23 मार्च को पाकिस्तान के राष्ट्रीय दिवस परेड में दिखाई देगा. चीन ने पीपुल्स लिबरेशन आर्मी एयरफोर्स का J-10 फाइटर जेट्स शनिवार को पाकिस्तान में 23 मार्च को होने वाले नेशनल डे परेड में हिस्सा लेने के लिए पाकिस्तान पहुंच चुका है. हालंकि यह अकेला चीन नहीं है जो परेड में मौजूद होगा. पाकिस्तान की इस परेड में उसके करीबी सहयोगियों सऊदी अरब और तुर्की भी शामिल होंगे.

मलेशियाई पीएम महाथिर मोहम्मद, जो ओआईसी के चैंपियन रहे हैं, 23 मार्च की परेड में मुख्य अतिथि हैं. पाक पीएम इमरान खान ने पिछले साल वित्तीय सहायता की मांग के लिए मलेशिया का दौरा किया था. जे -10 के अलावा, कई अन्य चीनी निर्मित रक्षा उपकरण पाकिस्तान की राष्ट्रीय दिवस परेड में प्रदर्शित होंगे, जिन्हें इस्लामाबाद द्वारा अपनी ताकत के रूप में दिखाया जायेगा.

 

पाकिस्तान चीन की HJ-8 एंटी टैंक मिसाइल और FM-90 एयर डिफेंस मिसाइल भी संचालित करता है और ये प्लेटफॉर्म राष्ट्रीय दिवस परेड में भी शामिल हो सकते हैं. JF-17 फाइटर जेट का एक तीसरा और अधिक उन्नत बैच, JF-17 ब्लॉक 3, वर्तमान में विकास और उत्पादन के अधीन है, भविष्य में पाकिस्तान वायु सेना में भी तैनात किया जा सकता है.

जे -10 एक हल्के मल्टीरोल लड़ाकू विमान है जो सभी मौसम की परिस्थितियों में संचालित करने में सक्षम है और बाहरी रूप से 1980 के दशक में विकसित इजरायल के 'लवी' के समान है.

एक प्रमुख चीनी फाइटर जेट विशेषज्ञ ने कहा कि चीन छठी पीढ़ी के फाइटर जेट की ओर वैश्विक दौड़ में पीछे नहीं रहेगा और 2035 तक अपने अगली पीढ़ी के फाइटर जेट तैयार कर लेगा. ग्लोबल टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार चेंग्दू एयरक्राफ्ट रिसर्च एंड डिजाइन इंस्टीट्यूट के मुख्य वास्तुकार वांग हैफेंग ने कहा कि चीन की छठी पीढ़ी का लड़ाकू विमान 2035 तक अस्तित्व में आ जाएगा.

छठी पीढ़ी के फाइटर जेट की कुछ नई विशेषताओं में एरोडायनामिक डिजाइन के माध्यम से ड्रोन, कृत्रिम बुद्धिमत्ता की क्षमता है. इसमें नई तकनीकों, जैसे कि लेजर, अनुकूल इंजन, हाइपरसोनिक हथियार और झुंड युद्ध, भी नए विमान का हिस्सा हो सकते हैं, वांग ने कहा, यह देखते हुए कि चीन इनमें से कुछ विशेषताओं का चयन करेगा और दूसरों को जोड़ देगा जो चीन की जरूरतों के अनुसार सही होंगे.

मुकेश अंबानी ने की छोटे भाई अनिल अंबानी की मदद, 550 करोड़ का कर्ज चुकाकर निभाया फर्ज

First published: 19 March 2019, 12:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी