Home » इंटरनेशनल » China fines Ford joint venture in latest hit on US firm
 

ट्रेड वॉर : हुआवेई विवाद के बाद अमेरिकी कार मेकर फोर्ड पर चीन ने ठोका जुर्माना

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 June 2019, 13:59 IST

चीन और अमेरिका के बीच जारी व्यापार युद्ध के बीच बीजिंग ने मंगवार को अमेरिकी ऑटो दिग्गज फोर्ड पर 23.6 मिलियन डॉलर का जुर्माना लगाया है. दक्षिण-पश्चिमी शहर चोंगकिंग में चंगान फोर्ड ऑटोमोबाइल की बिक्री का चार प्रतिशत जुर्माना चीन के एकाधिकार विरोधी कानूनों के उल्लंघन पर लगाया गया था. चंगान फोर्ड ने चोंगकिंग में बेचे जाने वाले वाहनों के लिए 2013 से न्यूनतम री-सेल मूल्य निर्धारित किया है जो कि मूल्य निर्धारण स्वायत्तता के डीलरों से वंचित है. सप्ताहांत में चीनी अधिकारियों ने यूएस कूरियर और लॉजिस्टिक्स फर्म फेडएक्स को भी निशाना बनाया था.

फेडएक्स ने पहले चीनी दूरसंचार कंपनी हुआवेई के कुछ पार्सल के गलत इस्तेमाल के लिए माफी मांगी थी. जिसे पिछले महीने अमेरिकी वाणिज्य विभाग के ब्लैकलिस्ट में जोड़ा गया था. Ford का चीन में संयुक्त उद्यम US ऑटो दिग्गज और राज्य के स्वामित्व वाले Changan ऑटोमोबाइल समूह के बीच 50-50 का विभाजन है. यह घरेलू बाजार के लिए फोर्ड यात्री वाहन बनाती है.

 

फोर्ड की पहली तिमाही में चीन की बिक्री 136,279 वाहनों तक गिर गई, जो पिछले साल की समान अवधि से 35.8 प्रतिशत कम थी. यह चीन में बिक्री मंदी का शिकार होने वाला एकमात्र वाहन निर्माता नहीं है. सालों के के मजबूत विकास के बाद दुनिया के सबसे बड़े ऑटो बाजार में पिछले साल इसकी पहली मंदी देखी गई.

1990 के दशक के बाद पहली बार कार की बिक्री में गिरावट, एक धीमी अर्थव्यवस्था, अमेरिकी व्यापार तनाव के कारण मणि जा रही है. चाइना एसोसिएशन ऑफ ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स (सीएएएम) के अनुसार, 2018 में बिक्री 2.8 प्रतिशत घटकर 28.1 मिलियन यूनिट रह गई, जो हाल के महीनों में तेज हुई है.

चीन ने अपने नागरिकों से कहा-अमेरिका की यात्रा न करें, इस बात का दिया हवाला

First published: 5 June 2019, 13:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी