Home » इंटरनेशनल » China offer India to board with China Nepal India corridor
 

चीन की नई चाल ! नेपाल होकर भारत तक सड़क-रेल नेटवर्क बढ़ाना चाहता है ड्रैगन

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 April 2018, 17:35 IST
(प्रतीकात्मक फोटो)

चीन पूरी दुनिया में अपनी पहुंच बढ़ाना चाहता है. इसीलिए चीन ने एशिया, यूरोप और अफ़्रीका के 65 देशों को जोड़ने की योजना बनाई है. इस परियोजना को चीन ने 'वन बेल्ट वन रोड' यानी ओबीओआर परियोजना नाम दिया गया है. जिसे न्यू सिल्क रूट नाम से भी जाना जाता है.

इसी के तहत चीन पाकिस्तान तक अपने रोड का विस्तार करना चाहता है. पिछले साल ही भारत ने चीन के पाकिस्तान तक जाने वाले 'वन बेल्ट वन रोड' का भारत ने कड़ा विरोध जताया था. लेकिन चीन शायद इससे बाज नहीं आया. इसीलिए उसने भारत को फंसाने के लिए अब एक और नई चाल चली है.

जिस चाल के तहत चीन अब भारत-नेपाल-चीन के बीच एक कॉरिडोर बनाना चाहता है. इसके लिए चीन ने एक प्रस्ताव रखा है. अब देखना ये होगा कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के चीन दौरे के दौरान चीन इस योजना को लेकर क्या नई चाल चलता है. गौरतलब है कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज 22 अप्रैल को चीन की यात्रा पर जा रही हैं.

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, चीन का यह प्रस्ताव पाकिस्तान में बनने वाले ओबीओआर के जैसा ही है. इसमें कई तरह के प्रोजेक्ट शामिल करने की बात है. गौरतलब है कि पाकिस्तान और चीन के बीच बनने वाले ओबीओआर या बेल्ट ऐंड रोड इनिश‍िएटिव (बीआरआई) का भारत विरोध कर रहा है, क्योंकि यह भारत के संप्रभुता वाले इलाके पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर यानि पीओके से होकर गुजरता है.

बुधवार को चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने इस योजना की जानकारी देते हुए कहा कि, ‘हमारा मानना है कि इस तरह के अच्छे विकसित नेटवर्क से चीन, नेपाल और भारत के बीच एक आर्थिक कॉरिडोर तैयार करने के लिए दशाएं तैयार की जा सकती हैं.’

चीनी विदेश मंत्री यी का कहना है कि, 'हमें उम्मीद है कि इस तरह के सहयोग से तीनों देशों में विकास और समृद्ध‍ि को बढ़ावा मिलेगा.' बता दें कि नेपाल में चीनी प्रोजेक्ट के प्रति उत्साह को देखते हुए चीन काफी खुश नजर आ रहा है. इसके साथ ही नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप कुमार ग्यावली नेपाल और चीन को जोड़ने वाले रेल, सड़क, ऊर्जा और दूरसंचार नेटवर्क के तमाम परियोजनाओं को लेकर काफी उत्साह दिखाई दे रहे हैं.

वांग ने ग्यावली के साथ संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, 'मेरा यह सपना है कि मैं एक आधुनिक ट्रेन में बैठकर चीन से नेपाल जाऊं ओर रास्ते की सारी खूबसूरती को देखूं. इस प्रोजेक्ट से बुनियादी ढांचे का भी विकास होगा, रेलवे और सड़क से सीमा पार संपर्क बढ़ेगा.’ बता दें कि चीन रोड ट्रांसपोर्ट को बढ़ाने के साथ ही रेल नेटवर्क पर भी खासा ध्यान दे रहा है. ऐसे में वह चाहता है कि चीनी रेल लाइन का विस्तार नेपाल के लुंबिनी तक कर ले. जो भारत की सीमा के बहुत करीब है.

First published: 19 April 2018, 17:35 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी