Home » इंटरनेशनल » China's response to the attack on Syria is a big blow to the US
 

सीरिया पर अटैक को लेकर आयी चीन की प्रतिक्रिया अमेरिका के लिए बड़ा झटका

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 April 2018, 18:46 IST

चीन ने अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस द्वारा सीरिया पर संयुक्त रूप से किए गए हमले की शनिवार को निंदा की और कहा कि यह संयुक्त राष्ट्र (यूएन) चार्टर का उल्लंघन है. इससे आगे चलकर संघर्ष का समाधान निकालना और मुश्किल हो जाएगा.

चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को नजरअंदाज कर की गई कोई भी एकतरफा सैन्य कार्रवाई अंतर्राष्ट्रीय कानून के बुनियादी सिद्धांतों और मानदंडों का उल्लंघन है. उन्होंने कहा, "इस तरह की कार्रवाई ने सीरिया में हालात का समाधान खोजने में नए और जटिल कारकों को शामिल कर दिया है।"

इससे पहले रूस ने चेतावनी दी है कि सीरिया पर अमेरिकी नेतृत्व में हुए हवाई हमलों के गंभीर परिणाम होंगे. गार्डियन की रिपोर्ट के अनुसार रूस ने डोनाल्ड ट्रम्प की तुलना एडॉल्फ हिटलर से की है. पुतिन ने कहा कि मिसाइल हमला एक संप्रभु राज्य के खिलाफ आक्रामकता का कृत्य है और यह संयुक्त राष्ट्र चार्टर के खिलाफ है. तुर्की ने भी इस हमले का समर्थन किया है. वहां के विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, "हम इस ऑपरेशन का स्वागत करते हैं, डूमा में हमले के चेहरे ने मानवता की अंतरात्मा को कम कर दिया है''.

अमेरिका ने सीरिया को धमकी दी थी कि सात अप्रैल को हुए हमले में अगर रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल की पुष्टि होती है तो सीरियाई सरकार को 'बड़ी क़ीमत' चुकानी होगी. ये हमले उन जगहों पर किए जा रहे हैं जहां कथित तौर पर रासायनिक हथियार रखे हैं.

 अमेरिका ने दावा किया है कि असद शासन 7 नवंबर को डूमा पर रासायनिक हमले के लिए जिम्मेदार है और इसके उनके पास सबूत हैं. प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि डूमा पर बैरल बम गिराने वाले हेलीकाप्टरों में सीरियाई सैन्य अधिकारी शामिल थे. व्हाइट हाउस ने डोनाल्ड ट्रम्प की घोषणा के बाद ही सीरिया पर हवाई हमलों का आदेश दिया था.

First published: 14 April 2018, 18:36 IST
 
अगली कहानी