Home » इंटरनेशनल » china try to ban for foreign origin program
 

चीन में विदेशी कॉन्सेप्ट वाले कार्यक्रमों पर चलेगी कैंची

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 June 2016, 17:14 IST
(एजेंसी)

चीन के टीवी नियामक ने देश के चैनलों के बीच खुद को लोकप्रिय बनाने के लिए विदेशों से प्रेरित टीवी कार्यक्रमों पर सख्त नियमों को लागू करने के निर्देश जारी किए हैं.

सरकारी फिल्म एवं टेलीविजन प्रशासन (एसएपीपीआरएफटी) के द्वारा रविवार को जारी नोटिस में कहा गया कि आयातित कॉपीराइट वाले विदेशी कार्यक्रमों को स्थानीय नियामकों की मंजूरी और पूर्ण फाइलिंग की प्रक्रिया के बिना सैटेलाइट टीवी चैनलों पर प्रसारण की अनुमति नहीं होगी.

चीनी सैटेलाइट टीवी चैनलों ने हाल के वर्षों में कई विदेशी टीवी कार्यक्रमों के प्रारूपों की नकल की है. इसके लिए कॉपीराइट आयात किए गए हैं. ये कार्यक्रम देश के लोकप्रिय टीवी कार्यक्रम बन गए.

मिसाल के तौर पर, झेजियांग टीवी चैनल में ‘रनिंग मैन’ के प्रसारण के लिए दक्षिण कोरिया के एसबीएस टीवी के एक मनोरंजन कार्यक्रम की नकल की गई है.

वहीं एक अन्य लोकप्रिय कार्यक्रम ‘द वॉयस ऑफ चाइना’ दरअसल ‘द वॉयस ऑफ हॉलैंड’ से प्रेरित था.

विदेशों से प्रेरित कार्यक्रमों को दो महीने पहले स्थानीय प्रांतीय नियामकों के रिकॉर्डों में लाना होगा और स्थानीय नियामक इसे मंजूरी देने के बाद एसएपीपीआरएफटी को सूचित करेंगे.

सभी सैटेलाइट टीवी चैनलों को हर साल प्राइम टाइम यानी शाम साढ़े सात बजे से रात साढ़े दस बजे के दौरान आयातित कॉपीराइट के साथ सिर्फ दो कार्यक्रमों के प्रसारण की ही अनुमति है.

इसके साथ ही नोटिस में यह भी कहा गया कि हर साल सिर्फ एक ही नए कार्यक्रम को प्रसारण की अनुमति होगी, लेकिन पहले साल में यह प्राइम टाइम में प्रसारित नहीं किया जा सकता.

एक जुलाई से उन नए विदेशी टीवी कार्यक्रमों के तत्काल प्रसारण पर प्रतिबंध रहेगा, जो रिकॉर्ड में शामिल नहीं किए गए हैं.

एसएपीपीआरएफटी ने कहा कि ये नए नियम इसलिए लाए गए हैं, क्योंकि कई टीवी चैनल विदेशी कार्यक्रमों पर निर्भर कर रहे हैं और उनके मौलिक कार्यक्रम बहुत कम हैं.

सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने इस मामले में कहा कि एसएपीपीआरएफटी ने सभी टीवी संस्थानों से अपील की है कि वे अपने कार्य के मूल में मौलिक कार्यक्रमों को रखें और शाम के समय प्राइम टाइम के दौरान मौलिक कार्यक्रमों का अनुपात बढ़ाएं.

First published: 20 June 2016, 17:14 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी