Home » इंटरनेशनल » China wants to occupy Taiwan
 

चीन की सेना इस देश पर हमला कर करना चाहती है कब्ज़ा, राष्ट्रपति शी ने कही ये बड़ी बात

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 January 2019, 14:09 IST

 

2019 के पहले सप्ताह में चीन ने चंद्रमा पर अंतरिक्ष यान को उतारने के लिए सुर्खियां बटोरीं, इसी दौरान चीन के एक सरकारी सैन्य अखबार ने एक नए साल के पहले दिन अपने संपादकीय ने अपने पाठकों को बताया कि चीन के लिए इस साल युद्ध की तैयारी सर्वोच्च प्राथमिकता होनी चाहिए. अगले दिन राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने बीजिंग में ताईवान को लेकर एक महत्वपूर्ण बात कही.

दरअसल चीन के शासक लंबे समय से इस द्वीप पर अपना अधिकार मानते हैं. बुधवार को एक प्रमुख भाषण में शी ने चेतावनी दी कि इस समस्या को दूसरी पीढ़ी के नहीं छोड़ा जा सकता है. उन्होंने कहा कि यदि आवश्यक हो तो बीजिंग बल का उपयोग करने का अधिकार रखता है. हालही में ताईवान ने अपने लोकतंत्र को बचाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय मदद की मांग की थी.

 

द्वीप पर आक्रमण करने के लिए अधिकांश सैन्य विश्लेषकों का तर्क है कि बीजिंग को रोकने के लिए अमेरिका को हस्तक्षेप करना होगा. चीन ऐसा करने के लिए अभी तक मजबूत नहीं है, लेकिन इसके सैन्य विस्तार का मतलब है कि हमेशा ऐसा नहीं हो सकता है. निश्चित रूप से, चीनी सैन्य सोच तेजी से इस तरह के संभावित युद्ध के इर्द-गिर्द घूमती है, जिसमें बीजिंग अमेरिकी सेना को वापस रखते हुए क्षेत्र को हथियाना चाहेगा.

चीन का अधिकांश सैन्य बिल्डअप जहाजों, विमानों और हथियारों के सिस्टम पर आधारित है जो ताईवान ले जाने के लिए आवश्यक संघर्ष के लिए अनुकूल हैं. हमला करने वाले सैनिकों को ले जाने के लिए जहाजों को उतारने के साथ-साथ, जिसमें अमेरिकी विमानों को नष्ट करने के लिए डिज़ाइन की गई मिसाइलों पर ध्यान केंद्रित करना शामिल है.

हालांकि घरेलू राजनीति भी ताईवान के लिए एक मुश्किल है. ताइवान के नवंबर चुनावों में अधिकारियों ने चीन पर रूस-शैली संदेश अभियान के लिए राष्ट्रपति त्साई इंग-वेन की स्वतंत्रता-समर्थक डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (DPP) के समर्थन का आरोप लगाया.

उन चुनावों में डीपीपी के लिए एक गंभीर झटका और चीनी-समर्थक कुओमितांग विपक्ष द्वारा एक मजबूत प्रदर्शन देखा गया था, लेकिन पिछले हफ्ते शी की टिप्पणियों से लगता है कि बीजिंग अभी भी सैन्य दबाव को द्वीप पर दबाव डालने के सर्वोत्तम तरीके के रूप में देखता है.

First published: 8 January 2019, 14:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी