Home » इंटरनेशनल » Chinese Global Times daily quoted War between India and China is possible
 

सीमा विवाद: 'भारत और चीन के बीच जंग हो सकती है'

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 July 2017, 17:04 IST

चीन के सरकारी मीडिया का कहना है कि अगर भारत और चीन के बीच सीमा विवाद सही तरीके से नहीं सुलझाया नहीं गया तो जंग हो सकती है. सिक्किम में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर भारत और चीन के बीच तनाव है. चीनी विशेषज्ञों का कहना है कि बीजिंग अपनी संप्रभुता से कोई समझौता नहीं करेगा. भले ही युद्ध ही क्यों न करना पड़े.

चीनी के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने विशेषज्ञों के हवाले से कहा है कि दोनों देशों के बीच जारी हालात नहीं सुधरे, तो कभी भी युद्ध शुरू हो सकता है. सिक्किम के डोका ला इलाके में भारत और चीन के बीच तीन हफ्ते से तनातनी देखी जा रही है.

'चीन 1962 से बहुत अलग'

चीन के सरकारी मीडिया ने अपनी रिपोर्ट में थिंकटैक्स के हवाले से कहा है, "भारत और चीन के बीच विवाद को सही तरीके से सुलझाया नहीं गया तो युद्ध मुमकिन है."  जम्मू-कश्मीर से लेकर अरुणाचल प्रदेश तक चीन के साथ भारत की 3,488 किलोमीटर लंबी सीमा है. इसमें से 220 किलोमीटर का इलाका सिक्किम में पड़ता है.

शंघाई म्युनिसिपल सेन्टर फॉर इंटरनेशनल स्टडीज के प्रोफेसर वांग देहुआ का कहना है, "चीन भी 1962 से बहुत अलग है." दरअसल भारत के रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने कहा था कि 2017 का भारत 1962 से बहुत अलग है.

जेटली ने कहा था, "अगर वे हमें याद दिलाना चाहते हैं, तो 1962 के हालात अलग थे और 2017 का भारत अलग है." वांग का कहना है, "भारत 1962 से ही चीन को अपना सबसे बड़ा प्रतिद्वंद्वी मानता आ रहा है. दोनों देशों में कई समानताएं हैं. मिसाल के तौर पर दोनों ही बहुत बड़ी जनसंख्या वाले विकासशील देश हैं."

'युद्ध की जगह विकास पर दें ज़ोर'

अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक शंघाई इंस्टीट्यूट फॉर इंटरनेशनल स्टडीज में सेन्टर फॉर एशिया-पैसिफिक स्टडीज के निदेशक जाओ गांचेंग ने कहा, "दोनों पक्षों को संघर्ष या युद्ध की जगह विकास पर ध्यान देना चाहिए. दोनों के बीच संघर्ष दूसरे देशों को फायदा उठाने का मौका दे सकता है, जैसे अमेरिका को."

वांग ने कहा, "भारत को चीन के प्रति अपना द्वेषपूर्ण रवैया छोड़ना चाहिए. दोनों देशों के बेहतर संबंध से दोनों ही पक्षों को फायदा है." जाओ ने कहा, "भारत सीमावर्ती रक्षा विनिर्माण क्षेत्र में चीन के साथ बराबरी करने की कोशिश कर रहा है." 

ग्लोबल टाइम्स की रिपोर्ट में कहा गया है कि 1962 में, चीन ने भारत के साथ इसलिए जंग की थी, क्योंकि भारत चीन की सीमा में घुस आया था. इस जंग मेें चीन के 722 और भारत के 4,383 सैनिक मारे गए हुए थे.

First published: 3 July 2017, 17:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी