Home » इंटरनेशनल » concerned about jadhav held in pakistan spy video tutored india
 

पाकिस्तान: कथित 'रा अधिकारी' के वीडियो बयान को भारत ने नकारा

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 March 2016, 13:34 IST

पाकिस्तान ने 25 मार्च को कथित तौर पर जिस कुलभूषण जाधव को 'रा अधिकारी' बताते हुए गिरफ्तारी का दावा किया था अब उसका एक वीडियो पाकिस्तानी अधिकारियों के द्वारा पेश किया गया है. इस वीडियों में जाधव द्वारा पाकिस्तान के खिलाफ जासूूसी की बात स्वीकार की गई है. लेकिन भारत सरकार ने इसे सिरे से खारिज किया है. कथित वीडियो पहली नजर में देखने पर डॉक्टर्ड दिखता है. इसमें जगह-जगह कट हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक इस वीडियो के आने के बाद भारत सरकार की ओर से प्रतिक्रिया में कहा गया है कि पाकिस्तान मामले को इस तरह से पेश करके पठानकोट हमले में अपनी जिम्मेदारी से बचना चाहता है. इसके साथ ही सरकार को इस बात का भी अंदेशा है कि कुलभूषण जाधव को गिरफ्तार नहीं बल्कि उसका अपहरण किया गया है.

jadhav

इस संबंध में भारतीय विदेश मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि कुलभूषण जाधव के बयान से साफ पता चल रहा है कि यह सिखा-पढ़ा कर और दबाव में तैयार कराया गया वीडियो है. हमें कुलभूषण जाधव की सुरक्षा के लेकर चिंतित हैं.

मंत्रालय के मुताबिक पाकिस्तान का यह आरोप पूरी तरह से गलत कि जाधव भारत सरकार के कहने पर आतंकी गतिविधियों में शामिल था.

पाकिस्तानी सरकार की ओर से मंगलवार को कुलभूषण जाधव का छह मिनट का एक वीडियो जारी किया गया है और इसे पाकिस्तान के न्यूज चैनल 'जियो चैनल' द्वारा प्रसारित किया गया. इस वीडियो में जाधव इस बात को स्वीकार करते हुए दिखाई दे रहे हैं कि वह भारतीय खुफिया एजेंसी 'रा' के लिए काम करते हैं और अब भी भारतीय नौसेना के कर्मचारी हैं. इसके साथ ही जाधव ने यह भी कहा कि वह साल 2022 में भारतीय नौसेना से रिटायर्ड होंगे.

जबकि भारत सरकार ने जाधव के कथित गिरफ्तारी के बाद यह स्पष्ट किया था कि कुलभूषण भारतीय नागरिक हैं और नौसेना से रिटायर्ड हैं. भारत सरकार से जाधव का कोई संबंध या संपर्क नहीं है.

इस मामले में रक्षामंत्री मनोहर पार्रिकर ने अपनी चिंता जाहिर करते हुए कहा कि पाकिस्तान सरकार के द्वारा कुलभूषण जाधव से भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों को भी मिलने नहीं दिया जा रहा है, जो पूरी तरह से अंतरराष्ट्रीय प्रोटोकॉल का उल्लंघन है.

पाकिस्तान सरकार के द्वारा जारी इस कथित वीडियो में जाधव ने कहा है कि उसने साल 2001 में भारतीय संसद पर हमले के बाद खुफिया विभाग में काम करने से करियर शुरू किया था और बाद में उसने ईरान में छोटे स्तर पर व्यापार शुरू किया, जिसके कारण उसे पाकिस्तान आने-जाने में सहूलियत होने लगी और साल 2013 में वह भारत सरकार का 'रा एजेंट' बन गया.

जाधव का कहना है कि जब वह 3 मार्च को ईरान से पाकिस्तान में घुसने का प्रयास कर रहा था, तभी पाकिस्तानी  अधिकारियों द्वारा उसे गिरफ्तार किया गया.

First published: 30 March 2016, 13:34 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी