Home » इंटरनेशनल » Corona Virus Outbreak: US President Trump again urged for help from India and ask for supply for Hydroxychloroquine
 

कोरोना वायरस: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने फिर मांगी भारत से मदद, दवाईयां न भेजने पर जबावी कार्रवाई की धमकी

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 April 2020, 10:10 IST

Corona Virus Update: कोरोना वायरस (Corona Virus) का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. अमेरिका (America) का समेत पूरी दुनिया के ताकतवर देश भी कोरोना (Corona) के सामने बेबस हो गए हैं. ऐसे में अमेरिका के सामने मदद मांगने की नौबत आ गई है और अमेरिका लगातार भारत से मदद मांग रहा है. दरअसल, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवाई की सप्लाई अमेरिका करने की मांग की है. चार अप्रैल को अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप (President Trump) ने पीएम मोदी (PM Modi) को फोन किया. इस दौरान दोनों नेताओं के बीच कोरोना वायरस पर चर्चा की. साथ ही ट्रंप ने दवाई की सप्लाई फिर शुरू करने को कहा था, लेकिन अब ट्रंप ने कहा है कि अगर भारत ये मदद नहीं करता तो फिर उसका करारा जवाब दिया जाएगा.

मंगलवार को व्हाइट हाउस में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, "रविवार की सुबह मैंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की थी, मैंने उनसे कहा था कि अगर आप हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की सप्लाई को शुरू करते हैं, तो काफी अच्छा होगा, लेकिन अगर वो ऐसा नहीं करते तो कुछ नहीं होता, तो उसका करारा जवाब दिया जाता. आखिर कड़ा जवाब क्यों नहीं दिया जाएगा?" बता दें कि हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा मलेरिया के लिए एक कारगर दवा है. जिसका प्रयोग भारत में कई दशक से हो रहा है. यही नहीं भारत दुनिया का ऐसे पहला देश है जो हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवाई की प्रमुख निर्यातक भी है.


बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ट्रंप को इस दवाई की सप्लाई का आश्वासन दिया गया था. इस बातचीत के बाद भारत सरकार ने 12 एक्टिव फार्माटिकल इनग्रीडियंट्स के निर्यात पर लगी रोक को हटा दिया है, जिसके बारे में जानकारी साझा की गई. दरअसल, विदेश व्यापार महानिदेशालय (DGFT) ने 25 मार्च को इस दवा के निर्यात पर रोक लगा दी थी. हालांकि, डीजीएफटी ने कहा था कि मानवता के आधार पर इस दवा की कुछ सप्लाई की अनुमति दी जा सकती है. अमेरिका में कोरोना वायरस संक्रमण के साढ़े तीन लाख से अधिक मामले सामने आ चुके हैं और दस हजार से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है.

बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने रविवार को जब पीएम मोदी से फोन पर बातचीत की तब ट्रंप ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में भारत का साथ मिलने पर आभार जताया था. व्हाइट हाउस में उन्होंने बयान दिया था कि अगर भारत दवाई की सप्लाई करता है, तो वह काफी अच्छा होगा, हम उनका धन्यवाद करते हैं. लेकिन अब दो दिन के अंदर ही ट्रंप पूरी तरह से बदल गए और धमकी देने के अंदाज में आ गए.

कोरोना वायरस: अमेरिका में मौत का तांडव, एक दिन में 1,255 की मौत, 30 हजार से ज्यादा मिले पॉजिटिव

Coronavirus: ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन की हालत बिगड़ी, ICU में किया गया शिफ्ट

कोरोना वायरस: 24 घंटे में गई 1200 की जान, अमेरिका के लिए मुश्किल भरा होगा यह सप्‍ताह

First published: 7 April 2020, 10:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी