Home » इंटरनेशनल » Corona Virus Pandemic: US President Trump praises PM Modi
 

भारत को लेकर दूसरे ही दिन बदले अमेरिका के सुर, ट्रंप ने पीएम मोदी को बताया महान और अच्छा नेता

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 April 2020, 11:12 IST

President Trump praises PM Modi: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (President Donald Trump) के सुर भारत को लेकर दूसरे ही दिन तब बदल गए, जब भारत ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन (Hydroxychloriquine) के निर्यात पर लगी रोक को हटा दिया. दरअसल, मलेरिया (Malaria) के इलाज में काम आने वाली दवाई हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के निर्यात पर भारत (India) ने 25 मार्च को रोक लगा दी. उसी दौरान अमेरिका (America) ने भारत से हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन की डिमांड की थी. इसके लिए राष्ट्रपति ट्रंप ने पीएम मोदी (PM Modi) को फोन किया था, पीएम मोदी ने भी ट्रंप को हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन देने का वादा किया था, लेकिन दो दिन तक दबाई ना मिलने पर ट्रंप ने भारत को धमकाते हुए कहा कि, अगर भारत ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के निर्यात पर लगी रोक नहीं हटाई तो वह कड़े कदम उठा सकता है. ट्रंप के इस बयान के कुछ घंटे बाद ही भारत ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के निर्यात पर लगी रोक को हटा दिया.

इसी के चलते अब ट्रंप प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जमकर तारीख कर रहे हैं. व्हाइट हाउस में एक संवाददाता संम्मेलन के दौरान ट्रंप ने प्रधानमंत्री मोदी की जमकर तारीफ की है. उन्होंने कहा है- मोदी महान हैं, वह बहुत अच्छे नेता हैं. वहीं अमेरिकी न्यूज चैनल फॉक्स न्यूज ने बातचीत के दौरान भी ट्रंप ने कहा कि, "नरेंद्र मोदी ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के मामले में हमारी मदद की है, वह काफी अच्छे हैं. डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि हम विदेश से कई दवाईयां मंगवा रहे हैं. इसमें भारत में बनाई जाने वाली हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवाईयां भी शामिल है. इसे लेकर मैंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी बात की थी."


राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि भारत से अभी बहुत अच्छी चीजें आनी बाकी हैं. उन्होंने कहा कि अमेरिका ने कोरोना महामारी से लड़ने के लिए भारत से हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन की 29 मिलियन डोज खरीदी हैं. ट्रंप ने कहा कि मैंने पीएम मोदी से पूछा था क्या वो हमें हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवाईयां देंगे? वो शानदार थे. बता दें कि हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन भारत में मलेरिया के इलाज में इस्तेमाल की जाती है. भारत में मलेरिया के मामले हर साल बड़ी संख्या में आते हैं और यही वजह है कि भारत इसका सबसे बड़ा उत्पादक है. ये दवा इस वक्त एंटी-वायरल के रूप में इस्तेमाल हो रही है.

बता दें कि भारत ने मंगलवार को इस दवा के निर्यात पर लगे प्रतिबंध को आंशिक तौर पर हटा दिया. विदेश मंत्रालय के मुताबिक, सरकार ने मानवीय आधार पर यह फैसला लिया है. ये दवाएं उन देशों को भेजी जाएंगी जिन्हें भारत से मदद की उम्मीद है, हालांकि घरेलू जरुरतें पूरी होने के बाद स्टॉक की उपलब्धता के आधार पर ही निर्यात किया जाएगा.

कोरोना वायरस: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने फिर मांगी भारत से मदद, दवाईयां न भेजने पर जबावी कार्रवाई की धमकी

कोरोना वायरस: दुनियाभर में 82 हजार से ज्यादा मौत, भारत में पीड़ितों की संख्या पांच हजार के पार

Corona Virus: लॉकडाउन से 76 दिन बाद 'आजाद' हुआ चीन का वुहान, यहीं से फैला कोविड-19

First published: 8 April 2020, 11:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी