Home » इंटरनेशनल » Coronavirus: Death due to corona after eight months in China, lockdown has been implemented in many cities
 

Coronavirus : चीन में आठ महीने बाद हुई कोरोना से मौत, कई शहरों में लागू किया गया है लॉकडाउन

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 January 2021, 9:12 IST

Coronavirus : आठ महीने में पहली बार गुरुवार को चीन में कोविड -19 से मौत की खबर सामने आयी है. जल्द ही WHO की एक एक्सपर्ट टीम भी चीन का दौरा करने वाली है. उत्तरी चीन के कई राज्यों में अब भी 20 मिलियन से अधिक लोग लॉकडाउन के अधीन हैं और एक प्रांत में आपातकाल घोषित कर दिया गया है. चीन ने सख्त लॉकडाउन और टेस्टिंग के माध्यम से वायरस के प्रकोप पर नियंत्रण पा लिया था लेकिन राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग (National Health Commission) द्वारा गुरुवार को फिर से 138 मामलों की सूचना दी गई. नई मृत्यु के बारे में स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा कोई विवरण नहीं दिया गया था, सिवाय इसके कि यह हेबै प्रांत (Hebei province) में हुआ था, जहां सरकार ने कई शहरों को तालाबंदी के तहत रखा है.

अधिकारियों ने पिछले हफ्ते बड़े पैमाने पर परीक्षण अभियान का शुभारंभ किया और हेबै की राजधानी शीज़ीयाज़ूआंग (Shijiazhuang) में परिवहन लिंक, स्कूलों और दुकानों को बंद कर दिया. सात मिलियन की आबादी वाले ज़िंगताई (Xingtai) को भी पिछले शुक्रवार से बंद कर दिया गया है. मुख्य भूमि चीन में पिछले साल मई से कोई मौत नहीं हुई थी और आधिकारिक मौत का आंकड़ा अब 4,635 है.


विश्व स्वास्थ्य संगठन के वैज्ञानिकों के एक विशेषज्ञ दल के आगमन से पहले चीन में मौतें सामने आयी हैं. टीम के गुरुवार को मध्य चीनी शहर वुहान में पहुंचने की उम्मीद है, जहां 2019 के अंत में पहली बार वायरस का पता चला था.मिशन के लिए टीम के प्रमुख पीटर बेन एम्बरेक ने कहा कि समूह होटल में दो सप्ताह का क्वारंटीन शुरू करेगा और फिर दो सप्ताह के बाद शहर की यात्रा करेंगे.

इधर भारत में 16 जनवरी से टीकाकरण अभियान की शुरुआत होगी. भारत बायोटेक (Bharat Biotech) ने बुधवार को कहा कि उसने भारत के 11 शहरों में अपने कोविड-19 वैक्सीन कोवाक्सिन (Covaxin) हवाई रास्ते से भेज दिया है और उसने केंद्र को 16.5 लाख खुराक दान की है. एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि कंपनी ने देश के प्रति अपना गहरा आभार व्यक्त किया.

55 लाख खुराक के लिए सरकारी खरीद आर्डर प्राप्त करने के बाद भारत बायोटेक ने गन्नावरम (विजयवाड़ा), गुवाहाटी, पटना, दिल्ली, कुरुक्षेत्र, बैंगलोर, पुणे, भुवनेश्वर, जयपुर, चेन्नई और लखनऊ में टीकों के पहले बैच को भेज दिया. यह भारत की पूरी तरह से स्वदेशी COVID-19 वैक्सीन है, जिसे भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी के सहयोग से विकसित किया गया है.

अगर केंद्र वैक्सीन मुफ्त नहीं करती है तो हम वैक्सीन मुफ्त में उपलब्ध करवाएंगे- केजरीवाल

First published: 14 January 2021, 8:59 IST
 
अगली कहानी