Home » इंटरनेशनल » Coronavirus: Pfizer says Covid-19 vaccine trial complete, cites shot is 95 per cent effective
 

Coronavirus: फाइजर का दावा- कोविड-19 वैक्सीन का ट्रायल हुआ पूरा, बुजुर्गों में 95 फीसदी प्रभावी

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 November 2020, 0:05 IST

कोरोना वायरस के असर से परेशान दुनिया को अभी भी एक प्रभावि वैक्सीन का इंतजार है और दुनिया के कई देशों को अमेरिकी दवा निर्माता कंपनी फाइजर इंक की कोविड-19 वैक्सीन से काफी उम्मीद हैं. कंपनी ने बुधवार को दावा किया है कि उसकी वैक्सीन का तीसरे चरण का ट्रायल पूरा हो गया है और यह वैक्सीन बुजुर्गों के ऊपर करीब 95 फीसदी प्रभावि है जबकि इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं है.

बता दें, कंपनी ने विश्व के अलग-अलग देशों के करीब 41 हजार से लोगों पर परिक्षण किया था और इस दौरान इन लोगों को संभाविक वैक्सीन की दो खुराक दी गई थी, जिसके बाद कंपनी इस निष्कर्ष पर पहुंची है. फाइजर ने कहा है कि वो जल्द ही आपातकालीन अमेरिकी प्राधिकरण के पास आवेदन करेगी.


फाइजर और उसकी साथी जर्मन बायोटेक्नोलॉजी फर्म बायोएनटेक ने पिछले हफ्ते प्रकाशित आंकड़ों के बाद कहा था कि उनका टीका प्लेसबो सलाइन शॉट की तुलना में संक्रमण से 90 प्रतिशत सुरक्षा प्रदान की है. फाइजर और बायोएनटेक ने बुधवार को जारी बयान में कहा कि वे 2020 में 50 मिलियन वैक्सीन खुराक और 2021 के अंत तक 1.3 बिलियन खुराक का उत्पादन करने की उम्मीद करते हैं. कंपनी का दावा है कि उसकी वैक्सीन कोविड-19 के हल्के और गंभीर रूपों को रोक सकती है और वो काफी कारगर है. इतना ही नहीं यह बुजुर्गों में 94 प्रतिशत प्रभावी रहा.

फाइजर के अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ अल्बर्ट बुर्ला ने कहा,"प्रतिदिन दुनिया में सैकड़ों लोग संक्रमित हो रहे हैं और हमें तत्काल एक प्रभावी टीके की आवश्यकता है. इस अध्ययन के नतीजों से आठ महीने की यात्रा में एक महत्वपूर्ण पड़ाव आया है. हम इस घातक महामारी का अंत करने के लिए टीके के निर्माण में लगे हैं. हम विज्ञान की गति से चल रहे हैं और अब तक एकत्र किये गए सभी आंकड़ों को विश्व भर के नियामकों से साझा कर रहे हैं."

फाइजर इंक ने इन दो भारतीय दवा कंपनियों के खिलाफ अमेरिकी अदालत में दायर किया मुकदमा

First published: 18 November 2020, 22:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी