Home » इंटरनेशनल » Coronavirus vaccine: 23 elderly people die, many fall ill after taking Pfizer vaccine in Norway
 

नॉर्वे में Pfizer की वैक्सीन लेने के बाद 23 बुजुर्गों की मौत, कई बीमार पड़े, जांच शुरू

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 January 2021, 14:17 IST

नॉर्वे (Norway) ने कोविड-19 वैक्सीन लगाने के तुरंत बाद 23 बुजुर्गों की मौत की सूचना दी है. नॉर्वे ने कहा कि कोविड-19 टीके बुजुर्ग लोगों के लिए बहुत जोखिम भरे हो सकते है. 23 के अलावा कई अन्य लोग टीकाकरण के तुरंत बाद बीमार हो गए हैं. इन मौतों को लेकर देश में जांच शुरू कर दी गई है. द ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के अनुसार नॉर्वे के डॉक्टरों ने जिन 23 लोगों की मौत की जांच शुरू की है, उन्हें फाइजर-बायोएनटेक वैक्सीन (Pfizer-BioNTech vaccine) दी गई थी और उनकी वैक्सीन लेने के कुछ समय बाद मौत हो गई.

डॉक्टरों ने कहा है कि वैक्सीन लेने के बाद प्रतिकूल प्रतिक्रियाएं 80 वर्ष से अधिक आयु के लोगों में देखी गई जिनके शरीर पहले से ही कमजोर थे. हालांकि फाइजर वैक्सीन और इन मौतों के बीच एक सीधा संबंध स्थापित होना बाकी है, लेकिन विशेषज्ञों ने कहा है कि मरने वाले 23 लोगों में से 13 में mRNA टीके के सामान्य लक्षण जैसे डायरिया, मतली और बुखार दिखाए हैं.


इस बीच Pfizer ने अब नॉर्वे की इन घटनाओं के बाद यूरोप में अपनी वैक्सीन सप्लाई को अस्थायी रूप से कम कर दिया है. नॉर्वेजियन इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक हेल्थ Norwegian Institute of Public Health (FHI) ने कहा कि डिलीवरी में कमी फाइजर के उत्पादन को सीमित करने के कारण है, ताकि यह 1.3 बिलियन प्रति वर्ष से 2 बिलियन वैक्सीन की खुराक अपग्रेड कर सके.

ब्लूमबर्ग ने बताया कि नॉर्वेजियन इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक हेल्थ ने अब 80 साल से अधिक उम्र के बुजुर्गों को टीका लगाने के खिलाफ चेतावनी जारी की है. दिसंबर के अंत से अब तक 30,000 से अधिक लोगों को नॉर्वे में फाइजर या मॉडर्ना कोरोना वायरस वैक्सीन का पहला शॉट मिला है. 23 बुजुर्गों की मौत पर विशेषज्ञों का कहना है कि डॉक्टरों को अब सावधानीपूर्वक विचार करना चाहिए कि किसको वैक्सीन लगाई जानी चाहिए.

नॉर्वेजियन मेडिसिन एजेंसी ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि 21 महिलाओं और आठ पुरुषों पर इसका दुष्प्रभाव देखा गया है. नौ रोगियों में एलर्जी, और गंभीर बुखार जैसे लक्षण दिखाई दिए. जबकि कम गंभीर दुष्प्रभावों में इंजेक्शन के दौरान गंभीर दर्द (severe pain) शामिल था.

फ्रांस में टीका लगने के दो घंटे बाद एक देखभाल रोगी की मौत हो गई लेकिन अधिकारियों ने कहा कि मरीज के पिछले मेडिकल इतिहास को देखते हुए कोई संकेत नहीं है कि मृत्यु वैक्सीन से जुड़ी हुई थी. फ्रांसीसी दवा सुरक्षा एजेंसी ने गुरुवार को गंभीर एलर्जी प्रतिक्रियाओं के चार मामलों और टीकाकरण के बाद अनियमित दिल की धड़कन की दो घटनाओं की सूचना दी.

मेडिसिन और हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स रेगुलेटरी एजेंसी ने कहा कि ब्रिटेन में यूरोप में कहीं भी प्रति व्यक्ति की तुलना में अधिक टीकाकरण किया गया है, अधिकारी सुरक्षा डेटा का आकलन करेंगे और संदिग्ध प्रतिक्रियाओं का विवरण नियमित आधार पर प्रकाशित करेंगे.  

पीएम मोदी ने की दुनिया के सबसे बड़े कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम की शुरुआत, पढ़िए क्या कहा

First published: 16 January 2021, 14:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी