Home » इंटरनेशनल » Coronavirus: Wuhan’s coronavirus cases may have been 10 times higher than reported
 

Coronavirus: चीन ने दुनिया से बोला झूठ! जहां से फैला था कोरोना वायरस, वहां 10 गुना अधिक हो सकती है संक्रिमतों की संख्या

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 December 2020, 13:38 IST

चीन के वुहान शहर से फैला कोरोना वायरल साल के अंत तक विश्व के सभी कोनों में फैल चुका है. इस वायरस का असर चीन में उतना नहीं दिखा, जितना अमेरिका और यूरोप के कई देशों में हुआ है. अमेरिका पूरी दुनिया में इकलौत ऐसा देश है जो कोरोना वायरस से सबसे अधिक प्रभावित है.

वहीं शुरूआत में इटली में इस वायरस ने जो कहर बरपाया था, उसने पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया. हालांकि, इस एक कारण यह भी हो सकता है कि चीन ने जिनता सख्त लॉकडाउन वुहान में लगाया था, शायद ही अमेरिक और इटली में उतना सख्त लॉकडाउन लगा.

दूसरी तरफ अमेरिका और यूरोप के कई देश चीन पर कोरोना वायरस की सही, सटीक और पूरी जानकारी नहीं देने का आरोप लगाते रहे हैं. अमेरिका बार बार आरोप लगाता है कि चीन में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या उससे कही अधिक है, जितना वो बता रहा है.

वहीं अब चीन ने खुद माना है कि वुहान में कोरोना वायरस के जीतने मरीजों की पुष्टी हुई है, वो उससे काफी कम है, जितने लोग इस वायरस से संक्रमित हुए हैं.

BGR.COM की रिपोर्ट की मानें तो चीनी रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्रों ने पाया कि वुहान में लगभग 5 लाख से अधिक लोग इस वायरस से संक्रमित हो सकते हैं, जो आधिकारिक COVID -19 मामलों की संख्या से 10 गुना अधिक है. बता दें, चीन ने बताया है कि वुहान में कोरोना से 50 हजार 354 लोग संक्रमित हुए हैं.

खबर के अनुसार, वुहान में कोरोना की पहली लहर के एक महीने के बाद करीब 34 हजार लोगों का एंटीबॉडी टेस्ट हुआ था और उस अध्ययन के बाद यह दावा किया गया है.

रिपोर्ट के अनुसार, अधिकारियों ने वुहान में 34,000 लोगों के नमूने का इस्तेमाल किया और पाया कि 4.43% लोगों में एंटीबॉडी थे. अगर इसी आंकड़ें की तुलना करें वुहान की कुल आबादी से करें तो इसका मतलब होगा कि 1 करोड़ से अधिक जनसंख्या वाले वुहान शहर में 477,000 से अधिक लोग कोरोना से संक्रमित हुए होंगे.

अध्ययन यह भी सामने आया है कि अधिकारियों ने बड़ी सफलता के साथ वायरस को केवल वुहान शहर तक सीमित करके रखा क्योंकि हुबेई प्रांत के अन्य शहरों में बस 0.44% लोगों में एंटीबॉडीज थे.


बता दें, भारत समेत दुनिया के कई देशों में वहां की सरकारों द्वारा इसी तरह के कई सर्वे किए गए थे और वहां भी ऐसे ही जानकारी सामने आई थी. ऐसे में वुहान के यह आंकड़ों डराने वाले नहीं है. लेकिन जिस तरह से चीन की सरकार ने वुहान और पूरे चीन में कोरोना के आंकड़ों को छुपाया है, उससे उस पर विश्वास करना काफी मुश्किल है.

इतना ही नहीं हाल ही में सीएनएन और न्यूयार्क टाइम्स ने एक खुलासा करते हुए कहा था कि चीन में शुरूआती दौर में जब कोरोना वायरस फैल रहा था, तब अधिकारी बार बार अपने ही दिशानिर्देशों को बदल रहे थे और जानकारी सामने नहीं आने दे रहे थे.

Coronavirus: फाइजर की वैक्सीन लगाने के कुछ ही घंटे बाद 75 साल के व्यक्ति की दिल का दौरा पड़ने से हो गई मौत, मचा हडकंप

First published: 30 December 2020, 13:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी