Home » इंटरनेशनल » Defence Minister Rajnath Singh sudden visit to Iran indicate a stern reply to China and Pakistan
 

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह अचानक ईरान दौरे पर तेहरान पहुंचे, चीन और पाकिस्तान को कड़ा संदेश

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 September 2020, 7:55 IST

पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) में एलएसी (LAC) पर भारत (India) और चीन (China) के बीच जारी तनाव के बीच रूस (Russia) का दौरा खत्म कर लौट रहे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) अचानक ईरान (Iran) पहुंच गए हैं. उनका ये दौरा काफी अहम माना जा रहा है क्योंकि पूर्वोत्तर में चीन और पश्चिमी सीमा पर पाकिस्तान के नापाक मंसूबों इससे करारा झटका लगेगा. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने खुद ट्वीट कर यह जानकारी दी है. उन्होंने ट्विटर पर लिखा, 'मैं ईरान के रक्षा मंत्री ब्रिगेडियर जनरल आमिर हतामी से मुलाकात करूंगा.'

इससे पहले रूस के दौरे पर पहुंचे रक्षा मंत्री ने मध्य एशियाई देशों उज्बेकिस्तान, कजाकिस्तान और ताजिकिस्तान को भी साधने की कोशिश की.एलएसी पर जारी तनाव पर भारत और चीन के बीच कूटनीतिक कवायद का अभी तक बहुत असर नहीं हुआ है. अब सबकी निगाहें एससीओ में जयशंकर और वांग यी की प्रस्तावित यात्रा पर टिकी हुई हैं. सूत्रों के मुताबिक, शंघाई सहयोग संगठन (SPO) की बैठक में भाग लेने रूस की राजधानी मॉस्को गए राजनाथ सिंह को शनिवार को ही भारत के लिए रवाना होना था, लेकिन उन्होंने तीनों देशों के समकक्षों से मिलने के लिए अपनी यात्रा को आगे बढ़ा दिया.


राजनाथ सिंह इसके बाद भारत वापस लौटने की बजाय मॉस्को से सीधे तेहरान पहुंच गए और अब ईरान के रक्षा मंत्री ब्रिगेडियर जनरल अमीर हातमी से मुलाकात करेंगे. साथ ही वहां रात्रि प्रवास भी करेंगे. बता दें कि अमेरिकी दबाव के बावजूद भारत और ईरान के बीच रिश्तों पर कोई असर नहीं पड़ा है. मोदी सरकार 2014 से लगातार ईरान को अहम सहयोगी मानती रही है. इससे एक दिन पहले ही उन्होंने फारस की खाड़ी के देशों से अपने मतभेदों को परस्पर सम्मान के आधार पर बातचीत से सुलझाने का अनुरोध किया था.

12 सितंबर से चलेंगी 40 जोड़ी स्पेशल ट्रेनें , देखिए पूरी लिस्ट

एससीओ की बैठक से इतर राजनाथ ने मध्य एशियाई देशों उज्बेकिस्तान, कजाकिस्तान और ताजिकिस्तान के रक्षा मंत्रियों के साथ भी द्विपक्षीय संबंधों और रक्षा समझौतों पर चर्चा की और इन देशों के साथ मजबूत व्यापारिक, आर्थिक और सांस्कृतिक रिश्तों की वकालत की. इसके बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर कहा, उज्बेकिस्तान के रक्षा मंत्री मेजर जनरल कुरबानोव बखोदीर नीजमोविच के साथ मॉस्को में शानदार बैठक हुई. दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों में रक्षा सहयोग एक महत्वपूर्ण स्तंभ है. एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा कि कजाकिस्तान के रक्षामंत्री लेफ्टिनेंट जनरल नुरलान येरमेकबायेव के साथ सार्थक बातचीत हुई. हमने भारत-कजाकिस्तान रक्षा सहयोग को और गति देने के तरीकों पर चर्चा की.

Teacher's Day 2020: जावड़ेकर ने कहा- राष्ट्रीय शिक्षा नीति 21वीं सदी में देश को लेकर जाएगी आगे

RRB Exam Dates: छात्रों के समर्थन में राहुल गांधी का ट्वीट- हम आपकी बात दुनिया के सामने रखते रहेंगे

इससे पहले चीनी रक्षा मंत्री से मुलाकात में राजनाथ सिंह ने कहा कि एलएसी पर मौजूदा स्थिति का प्रबंधन जिम्मेदारी के साथ किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि किसी भी पक्ष को आगे की ऐसी कोई कार्रवाई नहीं करनी चाहिए जिससे स्थिति जटिल हो जाए या सीमा क्षेत्रों में तनाव बढ़ जाए. रक्षामंत्री ने कहा कि दोनों ही पक्षों को जल्द से जल्द एलएसी पर सेनाओं के पूरी तरह पीछे हटने तथा तनाव खत्म करने और शांति एवं सद्भाव की पूर्ण बहाली सुनिश्चित करने के लिए कूटनीतिक एवं सैन्य माध्यमों सहित अपनी चर्चा जारी रखनी चाहिए.

ओवैसी का निशाना- PM मोदी ने प्रश्नकाल रद्द किया, लेकिन छात्रों को जेईई, नीट देने को किया मजबूर

सूत्रों के मुताबिक, रक्षा मंत्री का यह दौरा इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि पाकिस्तान के ग्वादर पोर्ट के जवाब में भारत ईरान के चाबहार बंदरगाह को विकसित कर रहा है. इसके रास्ते भारत न केवल अपनी सामरिक बल्कि आर्थिक हितों को भी साधेगा. वहीं, हाल ही में चीन ने ईरान के साथ अरबों डॉलर का सौदा किया था. ऐसे में अगर भारत चीन के खिलाफ ईरान को मना लेता है तो यह बड़ी कूटनीतिक जीत मानी जाएगी.

कोरोना अस्पताल में मरीजों ने किया डांस, IPS अधिकारी ने कहा- दिल खोल कर नाचें, वायरस हारेगा

First published: 6 September 2020, 7:55 IST
 
अगली कहानी