Home » इंटरनेशनल » dhaka attack: accused wife told my husband innocent
 

ढाका हमला: आरोपी की पत्नी ने कहा, मेरा पति बेकसूर है

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 August 2016, 12:33 IST
(एजेंसी)

बांग्लादेश की राजधानी ढाका के कैफे पर हुए आतंकी हमले की साजिश में शामिल एक संदिग्ध बांग्लादेशी-ब्रिटिश यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर की पत्नी का कहना है कि आतंकवादियों ने उनके पति का प्रयोग ‘मानव ढाल’ के रूप में किया है.

मालूम हो कि उच्च सुरक्षा क्षेत्र में हुए इस आतंकवादी हमले में 22 लोग मारे गए थे. गुलशन डिप्लोमैटिक एरिया में आतंकवादी हमले के संदिग्ध हसनत रजा करीम की पत्नी शरमीना प्रवीण ने मंगलवार को यह बात कही है. 

शरमीना का कहना है, "जब आतंकवादियों को पता चला कि हसनत अपने परिवार के साथ आर्टिसन बेकरी में खाना खा रहे हैं, तो उन्होंने उन्हें अलग तरह के काम के लिए चुना. हमलावर जानते थे कि हसनत ऐसी हालत में कभी भी अपने परिवार को छोड़कर नहीं भागेंगे."

ढाका ट्रिब्यून की खबर के मुताबिक फिलहाल हिरासत में मौजूद 47 वर्षीय करीम की पत्नी का कहना है कि हमलावरों ने उसके पति का मानव ढाल के रूप में इस्तेमाल किया.

हसनत और दो बच्चों के साथ स्पैनिश कैफे गए प्रवीण का कहना है कि वे जांच में पुलिस का सहयोग जारी रखेंगे, ताकि उनकी रिहाई जल्दी हो सके. उन्होंने कहा कि वे अपनी बेटी का 13वां जन्मदिन मनाने के लिए रेस्तरां गए थे.

प्रवीण ने कहा, "हमलावरों को जब पता चला कि हम हसनत के परिवार के सदस्य हैं, उन्होंने इसका फायदा उठाया. वह जानते थे कि वे हमें नहीं छोड़ेंगे. इसलिए रात को उन्होंने कई तरह के काम कराने के लिए उन्हें चुना. इसलिए उन्होंने मानव ढाल की तरह उनका इस्तेमाल किया."

एक जुलाई को पांच हथियारबंद युवकों ने होली आर्टिसन कैफे पर कब्जा कर लिया था. इस दौरान एक भारतीय सहित 22 बंधकों की हत्या कर दी गई थी. सभी हमलावरों की उम्र 20-25 साल के बीच थी.

First published: 11 August 2016, 12:33 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी