Home » इंटरनेशनल » Do you know which country have most powerful Passport
 

आपको पता है सबसे पावरफुल पासपोर्ट किस देश का है?

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 February 2016, 19:11 IST

क्या आपको पता है कि दुनिया के सबसे शक्तिशाली यात्रा दस्तावेज में किस देश का पासपोर्ट शामिल है. भारत का पासपोर्ट कितनी हैसियत रखता है यह भी जानने की जरूरत है. आपको बताते है जर्मनी स्थित गो यूरो वेबसाइट द्वारा इस संबंध में तैयार सूची क्या कहती है.

दरअसल जर्मनी की गो यूरो वेबसाइट ने वीजामुक्त प्रवेश, आवेदन का खर्च और पासपोर्ट हासिल करने में लगने वाले वक्त के आधार पर दुनिया के शीर्ष 51 देशों की सूची बनाई है. इसके मुताबिक अफगानिस्तान का पासपोर्ट दुनिया में सबसे कमजोर माना जाता है क्योंकि अफगानिस्तान के नागरिकों को वीजामुक्त यात्रा के दौरान दुनिया भर में तमाम परेशानियों का सामना करना पड़ता है. 

पढ़ेंः अब आप भी कीजिए फेसबुक पर इमोशनल अत्याचार

भारतीय पासपोर्ट को 50 सबसे शक्तिशाली यात्रा दस्तावेज में 48वें पायदान पर रखा गया है. जबकि जर्मनी का पासपोर्ट तीसरी बार भी लगातार सबसे शक्तिशाली पासपोर्ट बताया गया है.

51 देशों की सूची में 48वें पायदान पर आने वाला हमारा देश यानी भारत 52 देशों के नागरिकों को वीजा फ्री प्रवेश की सहूलियत देने के साथ केवल 24 डॉलर के खर्च में तैयार हो जाता है. जबकि इसे हासिल करने में 87 घंटे का वक्त लगता है. भारत के ऊपर 47वें पायदान पर चीन है वो भी भारत की ही तरह नागरिकों को 52 देशों में वीजामुक्त प्रवेश की ताकत देता है. इसके बनवाने में 32 डॉलर का खर्च आता है.

पढ़ेंः टेक ऑफ और लैंडिंग के दौरान क्यों खुली रखनी पड़ती है विमान की खिड़की?

सूची में पहले से पांचवे स्थान वाले देशों के पासपोर्ट धारी 174 देशों में वीजामुक्त प्रवेश पा सकते हैं. इनमें पहले पायदान पर स्वीडन है जो 43 डॉलर में तैयार होता है. जबकि दूसरे पर फिनलैंड (56), जर्मनी (69) तीसरे पर, यूनाइटेड किंगडम (110) चौथे और यूनाइडेट स्टेट्स ऑफ अमेरिका (135) पांचवे पर काबिज है.

कैसे तय होती है पासपोर्ट की शक्ति

यह पासपोर्ट धारकों की वीजामुक्त यात्रा की सहूलियत पर आधारित होती है. यानी किसी देश के पासपोर्ट रखने वाले नागरिक कितने देशों में बिना वीजा आवेदन के आ-जा सकते हैं, यह उसकी ताकत तय करता है. 

पढ़ेंः लैपटॉप-पीसी कीबोर्ड में 'Pause' और 'Break' बटन क्यों होते हैं

First published: 27 February 2016, 19:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी