Home » इंटरनेशनल » Don't use drone for siddharth : konika
 

आईएस के दूसरे जेहादी जॉन का बचाव किया बहन ने

आशीष कुमार पाण्डेय | Updated on: 11 January 2016, 23:39 IST
QUICK PILL
  • आईएस के साथ कथित तौर पर जुड़े भारतीय-ब्रिटिश मूल के व्यक्ति सिद्धार्थ धर की बहन ने अब उसका बचाव किया है. कोनिका धर के मुताबिक पिछले साल अक्टूबर में फोन \r\nकरके सिद्धार्थ ने उससे कहा था कि उसकी चिंता करने की जरूरत नहीं है.
  • कोनिका के मुताबिक उसने अपने भाई को वापस घर लौट आने के लिए कहा लेकिन सिद्धार्थ ने यह कहकर लौटने से मना कर दिया कि उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

आईएस के पहले हिंदू और भारतीय मूल के आतंकी के रूप में सामने आ रहे सिद्धार्थ धर उर्फ अबू रुमायशाह ने पिछले साल अपनी बहन कोनिका धर को संदेश भेजा था कि वह आतंकी संगठन आईएस के लिए मरने को तैयार है.

लंदन में रहने वाली भारतीय मूल की कोनिका धर ने अंग्रेजी अखबार द संडे टाइम्स को बताया है कि पिछले साल अक्टूबर में फोन करके सिद्धार्थ ने उससे कहा था कि मैं अपनी जिंदगी पर ध्यान दूं और उसकी चिंता न करूं.

इसके बाद ही सिद्धार्थ लंदन से सीरिया चला गया था. मैंने उससे संपर्क कर कहा था कि घर लौट आए. लेकिन वह नहीं लौटा क्योंकि उसे अपनी गिरफ्तारी का डर था.

हालांकि इस बात पर अभी भी संशय बना हुआ है कि वह नकाबपोश सिद्दार्थ ही है. सुरक्षा एजेंसियों ने आइएस के वीडियो में ब्रिटेन पर हमले की धमकी देने वाले नकाबपोश की शिनाख्त सिद्धार्थ के रूप में नहीं की है. वहीं कोनिका को लगता है कि धमकी देने वाला नकाबपोश उसका भाई हो सकता है.

रिपोर्ट के दावे के मुताबिक ब्रिटेन की खुफिया एजेंसी एमआई-5 भारतीय मूल के सिद्धार्थ धर को डबल एजेंट के रूप में भर्ती करने की कोशिश की थी. लेकिन उसने डबल एजेंट के प्रस्ताव को खारिज करते हुए सीरिया में आइएस में शामिल हो गया है.

आइएस के ताजा वीडियो में नकाबपोश धर को आतंकी संगठन का नया जल्लाद जिहादी जॉन बताया जा रहा है. दस साल पहले इस्लाम कुबूल करने के बाद सिद्धार्थ ने अपना नाम अबु रुमायशाह रख लिया.

अंग्रेजी अखबार द संडे टाइम्स के अनुसार ब्रिटेन के सुरक्षा सूत्रों के हवाले से बताया कि एमआइ-5 के अधिकारियों ने उस पर नजर रखी थी. 32 वर्षीय धर को आगाह किया गया था कि वह एमआइ-5 के निशाने पर है.

कुछ दिनों बाद सितंबर, 2014 में उसे गिरफ्तार कर लिया गया. जमानत मिलने के बाद वह अपनी बीवी और बच्चों के साथ पेरिस चला गया था, वहां से वह आइएस में शामिल होने सीरिया गया.

कोनिका ने ब्रिटिश प्रधानमंत्री डेविड कैमरन से प्रार्थना कि है उसके भाई की हत्या करने के लिए ड्रोन का उपयोग नहीं करें क्योंकि आतंकी संगठन आईएस ने उसका ब्रेनवॉश कर दिया गया है.

First published: 11 January 2016, 23:39 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी