Home » इंटरनेशनल » Trump believes he has power to dismiss Mueller, says White House
 

ट्रंप चाहें तो कर सकते हैं मुलर को बर्खास्त- व्हाइट हाउस

न्यूज एजेंसी | Updated on: 11 April 2018, 14:26 IST

व्हाइट हाउस का कहना है कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप मानते हैं कि उनके पास विशेष अभियोजक रॉबर्ट मुलर को बर्खास्त करने की शक्ति है. रॉबर्ट मुलर 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में ट्रंप के प्रचार अभियान और रूस के बीच कथित संबंधों की जांच कर रही टीम का नेतृत्व कर रहे हैं.

व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स से मंगलवार को एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान संवाददाताओं ने बार-बार पूछा कि क्या ट्रंप को लगता है कि उनके पास मुलर को पद से हटाने की शक्ति है. इसके जवाब में सैंडर्स ने कहा, "हमें कहा गया है कि राष्ट्रपति के पास यह फैसला लेने की शक्ति है."

ये भी पढ़ें-ये है दुनिया का सबसे बूढ़ा व्यक्ति, उम्र जानकार हो जाएंगे हैरान

हालांकि, सैंडर्स का यह बयान कई कानूनी विशेषज्ञों के रुख से विरोधाभासी है. विशेषज्ञों का कहना है कि यदि ट्रंप, मुलर को बर्खास्त करना चाहते हैं तो इसके लिए उन्हें डिप्टी अटॉर्नी जनरल रॉड रोसेनस्टीन से अनुमति लेनी पड़ेगी. रॉड ने ही रूसी जांच का नेतृत्व करने के लिए मुलर को नामित किया था.

सैंडर्स ने कहा कि व्हाइट हाउस इस तर्क से सहमत नहीं है कि सिर्फ रोसेनस्टेन के पास ही मुलर को बर्खास्त करने का अधिकार है. सैंडर्स ने कहा कि व्हाइट हाउस ने अपने कानूनी विशेषज्ञों और न्याय विभाग के कर्मियों की सलाह ली है. रोसेनस्टेन पर रूसी जांच मामले में विशेष अभियोजक मुलर के कामकाज का निरीक्षण करने की जिम्मेदारी है क्योंकि अमेरिकी अटॉर्नी जनरल जेफ सेशंस मार्च 2017 में इस जिम्मेदारी से पीछे हट गए थे.

ये भी पढ़ें-दुबई: 2 भारतीयों को सुनाई गई 517-517 साल की सजा, करोड़ों की हेरा फेरी का आरोप

गौरतलब है कि सेशंस पर आरोप है कि उन्होंने अमेरिका में रूस के राजदूत सर्गेई किसलक के साथ हुई अपनी कई बैठकों के बारे में अमेरिकी कांग्रेस को अवगत नहीं कराया था. इसके बाद रोसेनस्टेन ने मुलर को अमेरिकी चुनाव के दौरान रूस के कथित हस्तक्षेप की जांच की जिम्मेदारी सौंपी थी.

इस जांच के दौरान मुलर को ट्रंप के निजी अटॉर्नी माइकल कोहन के बारे में कुछ आपत्तिजनक जानकारी मिली थी, जिसे अटॉर्नी जनरल के ऑफिस से साझा करने के बाद सोमवार को कोहन के कार्यालयों और वह जिस होटल में ठहरे थे, वहां पर छापेमारी कर कई दस्तावेज जब्त किए गए.

ये भी पढ़ें-जब जकरबर्ग से पूछा गया- आपका माफ़ी मांगने का इतिहास रहा है, आज की माफ़ी कैसे अलग है ?

First published: 11 April 2018, 14:26 IST
 
अगली कहानी