Home » इंटरनेशनल » Donald Trump’s Twitter account hacked after Dutch researcher claims he guessed password – report
 

डॉनल्ड ट्रम्प के चुनावी नारे से मिला इशारा और फिर रिसर्चर ने कर दिया राष्ट्रपति का ट्विटर अकाउंट हैक- रिपोर्ट

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 October 2020, 14:19 IST

अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प का ट्विटर अकाउंट बीते दिनों हैक हो गया था और हैक करने वाले ने उनके एक चुनावी नारे से इशारा लेकर सही पासवर्ड बनाया और फिर राष्ट्रपति के ट्विटर अकाउंट में लॉगिन कर लिया. बता दें, हैक करने वाला कोई साइबर हैकर नहीं बल्कि एक शोधकर्ता है.

यह दावा नीदलरैंड के कई अखबारों ने विक्टर गेवर्स के हवाले से किया है. विक्टर गेवर्स ने दावा किया है कि उन्होंने अमेरिकी राष्ट्रपति के ट्विटर अकाउंट में लॉनिन करने के लिए "maga2020" पासवर्ड का इस्तेमाल किया था.


उन्होंने दावा किया कि अमेरिकी राष्ट्रपति के ट्विटर अकाउंट में लॉनिग करने के उन्हें अपने पाचवें प्रयास में ही सफलता मिल गई. maga का मतलब उन्होंने डोनाल्ड ट्रंप के चुनावी नारा 'Make America Great Agaiin' बताया है.

द गार्डियन की रिपोर्ट में दावा है कि इससे पहले साल 2016 में भी विक्टर ने राष्ट्रपति के ट्विटर अकाउंट में लॉगिन करने के लिए सही पासवर्ड का अनुमान लगाया था. उन्होंने उस दौरान yourefired के पासवर्ड का अनुमान लगाया था.

विक्टर ने डच अखबार De Volkskrant से बात करते हुए कहा,"मुझे लगा कि चार बार असफल प्रयास करने के बाद या तो ब्लॉक कर दिया जाएगा या फिर कुछ अतिरिक्त जानकारी मांगी जाएगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ."

ट्विटर के एक कर्मचारी के विक्टर के इन दावों को खारिज करते हुए कहा कि उन्होंने इस बात के कोई सबूत नहीं मिले हैं, जैसा दावा किया जा रहा है.

ट्विटर ने डच मीडिया रिपोर्ट का खंडन करते हुए एक ट्विटर प्रवक्ता ने कहा,"नीदरलैंड में आज प्रकाशित लेख की जानकारियों को शामिल करने के बाद भी हमने इस दावे को पुष्टी करने के लिए कोई सबूत नहीं देखा है. हमने संयुक्त रूप से संयुक्त राज्य अमेरिका में हाई-प्रोफाइल, चुनाव-संबंधित ट्विटर खातों के एक नामित समूह के लिए खाता सुरक्षा उपायों को लागू किया है."

दूसरी तरफ विक्टर ने दावा किया कि जिस आसानी के साथ उन्होंने राष्ट्रपति के अकाउंट में लॉगिन किया उससे साफ पता चलता है कि वो टू-स्टेप वेरिफिकेशन जैसे जैसे बुनियादी सुरक्षा उपायों का उपयोग नहीं कर रहे थे.

विक्टर ने दावा किया कि जब उन्होंने राष्ट्रपति के अकाउंट में लॉगिन कर लिया तो वो परेशान हो गए थे. ऐसे में उन्होंने प्रशासन को चेतावनी देते हुए टीम का ध्यान इस ओर दिलाया.

मीडिया रिपोर्ट का दावा है कि इसके बाद उन्होंने ट्रंप की अभियान टीम, उनके परिवार को संदेश भेजे. विक्टर ने बताया कि उन्होंने अगले दिन नोटिस किया कि टू-स्टेप वेरिफिकेशन का उपयोग किया गया और अगले दिन उनसे सीक्रेट सर्विस के अधिकारियों ने संपर्क कर इस ओर उनका ध्यान दिलाने के लिए शुक्रिया कहा. 

चीन में रहस्यमयी बीमारी का शिकार हो रहे अमेरिकी अधिकारी, ट्रंप प्रशासन ने जताया साजिश का शक

First published: 23 October 2020, 14:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी