Home » इंटरनेशनल » Donald Trump sworn as 45th president of US
 

डोनाल्ड ट्रम्प का सपना, अमेरिका को फिर से महान बनाना

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 January 2017, 3:26 IST
(एएफ़पी )

शुक्रवार की रात 10.30 बजे 70 साल के डोनाल्ड ट्रम्प ने अमेरिका के 45वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली. उन्हें अमेरिका के मौजूदा चीफ़ जस्टिस जॉन ग्लोवर रॉबर्ट्स ने शपथ दिलाई. ट्रम्प अमेरिका के पहले राष्ट्रपति हैं जिन्होंने 70 साल की उम्र में यह पद संभाला है. 

शपथ के बाद डोनाल्ड ट्रंप ने 20 मिनट तक भाषण दिया. उन्होंने नौकरियों और उद्योगों से जुड़ी चिंताओं को रेखांकित करने के बाद कहा कि अब आपका मोमेंट आ गया है और ये लंबे समय तक रहेगा. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, 'आज का दिन आपका है. ये आपका जश्न है. अमेरिका आपका देश है. ये मायने नहीं रखता कि कौन-सी पार्टी सरकार को कंट्रोल करेगी क्योंकि यह जनता की सरकार होगी'.

उन्होंने आगे कहा, 'हमने ट्रिलियन्स डॉलर विदेशों में खर्च किए, जबकि अमेरिका कमज़ोर होता गया. हम दूसरे देशों को अमीर बनाते गए लेकिन हमारे देश में एक के बाद एक उद्योग बंद होते गए लेकिन अब ऐसा नहीं होगा. आज के बाद एक नया विज़न इस देश को चलाएगा. आज के बाद अमेरिका फर्स्ट का नारा होगा. हमें अपनी सरहदों की हिफाजत करनी होगी'. उन्होंने आगे कहा कि हम नए रिश्ते बनाएंगे और पुराने रिश्तों को मज़बूत करेंगे. हम इस्लामिक स्टेट को पूरी तरह ख़त्म कर देंगे.

डोनाल्ड ट्रम्प ने अपने भाषण में देशवासियों को ढेर सारे सपने दिखाए हैं. उन्होंने कहा है कि अमेरिका फिर जीतेगा. ये जीत ऐसी होगी, जो पहले कभी नहीं हुई होगी. हम दोबारा नौकरियां लेकर आएंगे. हम अपनी सरहदों को महफूज़ करेंगे. हम अपने सपनों को दोबारा ज़िंदा करेंगे. उन्होंने विकास के मुद्दे पर बोलते हुए कहा कि हम नई सड़कें, नई सुरंगें, एयरपोर्ट और पुल बनाएंगे. अब हम अपने देश को अमेरिकी हाथ और अमेरिकी श्रम से ही आगे बढ़ाएंगे. अब हम एक ही सिद्धांत पर काम करेंगे और वो है, 'Buy American, hire American'. 

अपने भाषण के अंत में ट्रम्प ने कहा, 'इन बातों को आप कभी नज़रअंदाज मत करना- आपकी आवाज़, आपकी उम्मीद और आपका सपना अमेरिका का भाग्य तय करेगा। आपका प्यार ही हमें आगे का रास्ता दिखाएगा. हम अमेरिका को फिर से मजबूत, समृद्ध और महान बनाएंगे'. 

शाही समारोह

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के शपथ ग्रहण समारोह को भव्य बनाने की तैयारियां ज़ोर-शोर से चल रही थीं. अमेरिकी मीडिया के मुताबिक शपथ ग्रहण समारोह की सुरक्षा में तक़रीबन 700 करोड़ रुपए का ख़र्च आया है जबकि कुल ख़र्च का अनुमान 13 सौ करोड़ के आसपास है. माना जा रहा है कि अमेरिकी राष्ट्रपति के शपथ ग्रहण समारोह के इतिहास में यह अब तक की सबसे महंगी ओथ सेरेमनी है. 

विरोध प्रदर्शन

अमेरिका के इतिहास में ऐसा पहली बार देखा गया है कि नव निर्वाचित राष्ट्रपित को इतना तीखा विरोध झेलना पड़ा है. एक तरफ़ ट्रम्प के शपथ समारोह की तैयारियां चल रही थीं, तो दूसरी ओर उनका विरोध करने के लिए पूरी ताक़त लगाई गई. वाशिंगटन डीसी ने सैकड़ों प्रदर्शनकारियों ने सड़क पर उतरकर राष्ट्रपति ट्रम्प के ख़िलाफ़ नारेबाज़ी की. कुछ इलाक़ों में प्रदर्शनकारी हिंसक हो गए. आगजनी और तोड़फोड़ के कारण पुलिस को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े. कई प्रदर्शनकारी पुलिस की कार्रवाई में ज़ख़्मी भी हुए हैं. 

आम जनता के अलावा विपक्षी पार्टी ने भी बड़े पैमाने पर ट्रम्प के शपथ ग्रहण समारोह का विरोध किया. अमेरिकी मीडिया के मुताबिक डेमोक्रेटिक पार्टी के तक़रीबन 60 सांसद 45वें राष्ट्रपति के शपथ समारोह में शामिल नहीं हुए. 

अमेरिका के 45वें राष्ट्रपति के लिए हुए चुनाव के नतीजों में जब डोनाल्ड ट्रंप को जीत मिली, तभी से अमेरिका के अलग-अलग हिस्सों में विरोध प्रदर्शन जारी है. माना जा रहा है कि आज वॉशिंगटन में नव निर्वाचित राष्ट्रपति के विरोध में बड़ा जुलूस निकलेगा. अनुमान है कि इसमें ढाई लाख प्रदर्शनकारी हिस्सा ले सकते हैं. तमाम क्षेत्रों की जानी-मानी हस्तियां भी ट्रम्प विरोधी जुलूस में भाग ले सकती हैं. 

इस्लामिक स्टेट का ख़ात्मा?

डोनाल्ड ट्रम्प ने अपने भाषण में कहा है कि वह इस्लामिक स्टेट को पूरी तरह ख़त्म कर देंगे. मगर कई देशों में अमेरिका और इस्लामिक स्टेट एक-दूसरे के सहयोगी की तरह लड़ रहे हैं. ताज़ा उदाहरण सीरिया का है जहां राष्ट्रपति बशर अल असद को हटाने के लिए अमेरिका और इस्लामिक स्टेट एक साथ लड़ रहे थे लेकिन अलेप्पो में इन्हें हार का सामना करना पड़ा है. 

इसी तरह यमन में हूती विद्रोहियों का ख़ात्मा करने के लिए सऊदी अरब और अमेरिका की लड़ाई में इस्लामिक स्टेट को भी सहयोगी माना जाता है. सवाल यही है कि जब अमेरिका और आईएस कुछ देशों में साथ मिलकर लड़ रहे हैं तो फिर इस चरमपंथी संगठन को दुनिया के नक्शे से मिटाने का दावा कहीं जुमला तो नहीं है. 

बहरहाल, राष्ट्रपति पद की शपथ लेने के बाद से डोनाल्ड ट्रंप को बधाई संदेश भेजने वालों का तांता लगा हुआ है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ट्वीट कर उन्हें मुबारकबाद दी है. उन्होंने लिखा है, 'अमेरिका के 45वें राष्ट्रपति के साथ काम करने को लेकर उत्साहित हैं। दोनों देशों के रिश्ते आगे बढ़ाएंगे'. 

First published: 21 January 2017, 3:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी