Home » इंटरनेशनल » Donkey stolen in Africa to Feed Chinese Demand for Skin
 

चीन कर रहा है गधों की चोरी, वजह जान कर चौंक जाएंगे आप

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 June 2018, 15:44 IST

अफ्रीकी देशों से काला बाजारी कर गधों की खाल को चीन भेजा जा रहा है. दरअसल गधों की इस कालाबजारी के पीछे एक बड़ी वजह है. चीन काला बाजारी से लाये इन गधों की खाल निकालता है और फिर इस खाल से जिलेटिन बनाता है. दरअसल जिलेटीन स्वास्थय क्षेत्रों में इस्तेमाल में लाया जाता है. वही चीन की इस हरकत की वजह से अफ्रीकी लोगों को खासा परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. क्यों कि यहां काफी संख्या में लोग कृषि कार्यों और भारी सामानों की ढुलाई के लिए गधों पर निर्भर होते हैं.

यह मामला हाल ही में तब सामने आया जब जोसेफ कामोनजो कारियूकी के तीन गधे लापता हो गए थे, जिनके बाद में अवशेष बरामद हुए. केन्या से लेकर बुरकिनी फासो, मिस्र से लेकर नाइजीरिया तक के पशु अधिकार समूहों का कहना है कि गधे के खाल की कालाबाजारी करने वाले चीन में जेलिटिन की मांग को पूरा करने के लिए गधो को मारकर उनकी खाल को निकालते हैं.

बता दें कि जिलेटिन गधे की खाल से बनता है, इसका इस्तेमाल हेल्थ फील्ड में किया जाता है. पशु अधिकार कार्यकर्ताओं का कहना है कि चीन में गधों की संख्या में बड़ी संख्या में कमी आयी है जिसके बाद अब इसकी आपूर्ति अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अमेरिका से की जा रही है.

ये भी पढ़ें-पीएम मोदी के उड़ान योजना के तहत Jet Airways दे रही है सबसे सस्ते हवाई सफर का मौका

इसके बाद अफ्रीका के 14 देशों की सरकारों ने गधे की खाल के निर्यात पर रोक लगा दी है. इस प्रतिबंध के बाद भी अफ्रीका में गधों की संख्या में लगातार घट रही है.केन्या में बीते 9 साल में गधों की संख्या 18 लाख से घटकर 12 लाख हो गई है. कहा जा रहा है अगर इसी गति से गधो को मारा जाता रहा तो जल्द ही यह प्रजाति विलुप्ति के कगार पर पहुंच सकती है.

First published: 15 June 2018, 15:44 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी