Home » इंटरनेशनल » Dutch man covered 30 countries with electric car from Netherlands to New Zealand
 

ई-कार से इस शख्स ने घूम लिए 30 देश, तीन साल में पूरा किया नीदरलैंड्स से न्यूजीलैंड तक का सफर

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 July 2019, 11:20 IST

कुछ कर गुजरने का जज्बा अगर मन में हो तो बड़़ी से बड़ी बाधा खत्म हो जाती है. ऐसा ही कुछ कर दिखाया नीदरलैंड्स के एक शख्स ने. जिसने इलैक्ट्रिक कार से दुनिया के 30 देश घूम लिया. वह भी महज तीन साल में. उसने नीदरलैंड्स से न्यूजीलैंड तक का सफर तीन साल में पूरा कर लिया. इस दौरान उसने 1,00000 किलोमीटर से ज्यादा की यात्रा की.

दरअसल, वाइब बकर नाम का ये शख्स एक पर्यावरण प्रेमी है. जो यूरोप के देश नीदरलैंड्स में रहता है. वीब बेकर ने तीन साल में एक लाख किलोमीटर की दूरी तय की और वह नीदरलैंड्स से न्यूजीलैंड पहुंच गए. इस दौरान उन्होंने तीन देशों की यात्रा की. उनकी इस यात्रा की सबसे खास बात ये है कि इस यात्रा को पूरा करने के लिए वाइब ने अपनी इलेक्ट्रिक कार का सहारा लिया. वाइब तीन साल में एक लाख 1000 किलोमीटर की यात्रा तय कर चुके हैं. उन्होंने अपनी यात्रा साल 2016 में नीले रंग की एक इलेक्ट्रिक कार से नीदरलैंड्स से शुरु की थी

दरअसल, वाइब अपनी इस यात्रा के जरिए इलेक्ट्रिक वाहनों का अधिक से अधिक प्रयोग और उनकी क्षमता और ताकत के बारे में बताने का था, जिससे लोग लोग ईंधन वाले वाहनों का उपयोग करना कम करें और पर्यावरण को बचाया जा सके. उनकी इस यात्र का फंड उनके सोशल मीडिया के फॉलोअर्स ने दिया है. वाइब बताते है कि, वह चाहते थे कि वह इस तकनीक को प्रमोट करने के लिए कुछ अलग करें. लोगों को यह समझाएं कि अब समय आ गया है कि जीवाश्म ईंधन वाले वाहनों का उपयोग खत्म करने का.

वाइब लोगों को संदेश देना चाहते हैं कि हर कोई ऐसे वाहन चलाए जो पर्यावरण के अनुकूल हो. अपनी 1,01,000 किमी की यात्र के दौरान वाइब पूर्वी यूरोप, ईरान, भारत, दक्षिणपूर्व एशिया में घूमे. इसके साथ ही वह ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में भी घूमते रहे. उनकी यात्रा का आखिरी पड़ाव शुक्रवार को न्यूजीलैंड में खत्म हो गया. वाइब अपने ब्लॉग में अपनी यात्र के रोजाना के अपडेट दिया करते थे.

वाइब लोगों को संदेश देना चाहते हैं कि हर कोई ऐसे वाहन चलाए जो पर्यावरण के अनुकूल हो. अपनी 1,01,000 किमी की यात्र के दौरान वाइब पूर्वी यूरोप, ईरान, भारत, दक्षिणपूर्व एशिया में घूमे. इसके साथ ही वह ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में भी घूमते रहे. उनकी यात्रा का आखिरी पड़ाव शुक्रवार को न्यूजीलैंड में खत्म हो गया. वाइब अपने ब्लॉग में अपनी यात्र के रोजाना के अपडेट दिया करते थे. वाइब बताते है कि इस यात्रा के दौरान उनकी मुलाकात दुनियाभर में अजनबियों से हुई जिन्होंने मेरा ख्याल रखा.

मछुआरे को बोतल में बंद मिली 50 साल पुरानी चिट्ठी, लिखा था ये संदेश

First published: 21 July 2019, 11:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी