Home » इंटरनेशनल » Earthquake hits Indonesia, magnitude of 6.0 on the Richter Scale
 

इंडोनेशिया में आया 6.2 तीव्रता का भयानक भूकंप, सुनामी के खतरे से बाल-बाल बचा देश

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 January 2019, 10:37 IST
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

इंडोनेशिया के ईस्ट नुसा तेंगारा प्रांत में मंगलवार को रिक्टर पैमाने 6.2 की तीव्रता के भूकंप के झटके महसूस किए गए. इससे सुनामी आने की संभावना नहीं है. देश के मौसम विज्ञान और भूभौतिकी एजेंसी ने यह जानकारी दी. एजेंसी ने कहा कि किसी तरह के नुकसान होने की कोई प्रारंभिक रिपोर्ट नहीं आई है.

मौसम विज्ञान एवं भूभौतिकी एजेंसी के प्रभारी अधिकारी अजीज सुगियारसो ने कहा कि भूकंप का केंद्र प्रांत के सुंबा बरात जिले के दक्षिणपश्चिम में 103 किलोमीटर दूर और समुद्र तल के नीचे 10 किलोमीटर की गहराई में था. उन्होंने समाचार एजेंसी सिन्हुआ को बताया, "इस भूकंप से सुनामी आने का कोई संकेत नहीं है, इसलिए हमने इसके लिए चेतावनी जारी नहीं की."

उन्होंने आगे कहा, "हमें भूकंप से कोई नुकसान या किसी के हताहत होने की सूचना नहीं मिली है." अधिकारी ने कहा कि भूकंप के नौ मिनट बाद, प्रांत में 5.2 तीव्रता का एक और झटका महसूस किया गया.

इस तरह के भूकंप के बाद सबसे बड़ा ख़तरा सुनामी का हो जाता है. सुनामी के खतरे को देखते हुए अधिकारियो ने अभी फिलहाल राहत की खबर दी है. लेकिन अगर ये भूकंप की तीव्रता में थोड़ी और तेजी होती तो देश में सुनामी का ख़तरा बढ़ सकता था.

 

भूकंप के समय क्या करें

भूकंप के समय आपको संभलने का मौक़ा नहीं मिलता ऐसे में सबसे ज्यादा जरुरी है कि घबराये बिना कुछ बेसिक टिप्स अपनाएं. जैसे कि भूकंप के समय अगर आप घर में हो तो इधर उधर भागने के बजाय तुरंत फर्श पर बैठ जाएं. घर में किसी मजबूत फर्नीचर के नीचे बैठकर अपने हाथ से सिर को ढक लें. ऐसा इसलिए जरुरी है कि भूकंप की हालत में सबसे ज्यादा जरुरी है कि सर को चोट लगने से बचाया जाए. क्योंकि सर की चोट सबसे ज्यादा खतरनाक होती है.

प्रवीण तोगड़िया ने PM मोदी को लेकर किया ये बड़ा खुलासा...

अगर दुर्भाग्यवश कभी आप भूकंप की चपेट में आ जाए और मलबे के नीचे दब जाएं तो किसी रुमाल या कपड़े से मुंह को ढंके. मलबे के नीचे दबे होने की हालात में हिमायत न हारें बल्कि बचाव कार्य में जुटे लोग आपको खोज सके इसके लिए कुछ न कुछ हरकत करते रहे. ताकि आपकी मौजूदगी बचाव कार्य करने वाले समझ सके.

(इनपुट एजेंसी से भी)

First published: 22 January 2019, 10:37 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी