Home » इंटरनेशनल » European Parliament Postpones Voting On CAA Resolution
 

EU संसद में भारत की कूटनीतिक जीत, CAA पर बहस के बाद भी नहीं हो सकी वोटिंग, खाली रहा सदन

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 January 2020, 10:10 IST

Debate on CAA in EU Parliament: भारत की कूटनीति के चलते यूरोपियन संसद (European Parliament) में गुरुवार (Thursday) को सीएए (CAA) पर वोटिंग (Voting) नहीं हो सकी. हालांकि इससे पहले यूरोपियन संसद में सीएए को लेकर चर्चा जरूर हुई, बावजूद इसके सीएए खिलाफ होने वाले वाले चुनाव के लिए वोटिंग नहीं हो सकी. इस दौरान यूरोपियन संसद खाली नजर आया.

यूरोपियन पार्लियामेंट में सीएए के खिलाफ वोटिंग टल जाना भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत माना जा हरा है. बता दें कि पिछले साल दिसंबर महीने में भारत की संसद में नया नागरिकता संशोधन कानून पारित किया गया. इस कानून के तहत बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान से आए हिंदू, सिख, ईसाई, जैन, पारसी और बौद्ध धर्म के लोगों को नागरिकता देना है.


इस कानून के खिलाफ भारत के कई शहरों में विरोध हो रहा है. हालांकि केंद्र सरकार ने स्पष्ट कहा है कि नया नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) किसी भी हालत में वापस नहीं लिया जाएगा. क्योंकि ये कानून भारत के किसी नागरिक की नागरिकता नहीं छीनता. ये कानून पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में परेशान किए गए अल्पसंख्यकों को नागरिकता देता है. बावजूद इसके देशभर में सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन थम नहीं रहा है.

बता दें कि भारत के नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ यूरोपियन संसद में एक प्रस्ताव पेश किया गया था. जिसके लिए गुरुवार को वोटिंग होनी थी, लेकिन वोटिंग के लिए सदन में बड़ी संख्या में सदस्य मौजूद नहीं रहे. अब ये वोटिंग मार्च में हो सकती है. इसे भारत की एक बड़ी कूटनीतिक जीत मानी जा रही है. इस संबंध में यूरोपियन पार्लियामेंट की तरफ से एक बयान जारी किया गया है. हालांकि, सीएए पर यहां चर्चा जारी रहेगी.

हालांकि, सीएए पर वोटिंग कैंसिल होने के पीछे की जानकारी अभी सामने नहीं आई है. लेकिन जो खबरें सामने आई हैं उसके मुताबिक कहा जा रहा है कि यूरोपियन पार्लियामेंट में पाकिस्तान के ऊपर भारत की जीत हुई है. वहीं, भारत सरकार के सूत्रों का कहना है कि सीएए भारत का आंतरिक मामला है और इसे लोकतांत्रिक तरीके का पालन करते हुए देश में लागू किया गया है. सरकारी सूत्रों के मुताबिक भारत सरकार का कहना है कि हम इस बात की उम्मीद करते हैं कि यूरोपियन पार्लियामेंट के सदस्य सीएए पर भारत की बात समझेंगे.

एयरलाइंस के बाद अब कॉमेडियन कुणाल कामरा को दिल्ली के ऑटो-डीटीसी ने भी किया बैन, समर्थन में उतरे राहुल गांधी

कोरोना वायरस ने चीन में ली 169 लोगों की जान, भारत समेत कई देशों से चीन की फ्लाइट कैंसिल

सरकार ने बताया कोरोना वायरस का आयुर्वेदिक इलाज, कहा इन दवाओं का करें इस्तेमाल

First published: 30 January 2020, 10:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी