Home » इंटरनेशनल » FATF group blacklisted pakistan on terror financing
 

पाकिस्तान आतंकी फंडिंग रोकने में रहा नाकाम, अब झेलना पड़ेगा ये भारी नुकसान

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 August 2019, 13:45 IST

पाकिस्तान भारत को चारों ओर से घेरने की तैयारी करता रहता है, लेकिन हर बार उसे नाकामी हासिल होती है. भारत को पूरी दुनिया के सामने घेरने की कोशिश में अब पाकिस्तान खुद ही उल्टा फंस गया है. दरअसल, पाकिस्तान को आतंकियों को भेजने वाली फंडिंग रोकने के लिए कहा गया था, लेकिन आतंकियों को आर्थिक सहायता रोकने में पाकिस्तान नाकाम रहा. पाकिस्तान की इस नाकामी के बाद फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) ने उसे ब्लैकलिस्ट कर दिया.

भारतीय अधिकारियों ने बताया कि एफएटीएफ के एशिया प्रशांत समूह ने पाकिस्तान को वैश्विक मानकों पर खरा उतरने में असफल रहा. इसलिए पाकिस्तान को ब्लैकलिस्ट में डाल दिया गया. एफएटीएफ ने देखा कि पाकिस्तान द्वारा धन शोधन और आतंकवाद के वित्त पोषण संबंधी 40 अनुपालन मानकों में से 32 का पालन नहीं कर सका.

जून 2018 में पाकिस्तान को ग्रे सूची में डाला गया था. इसके बाद अक्टूबर 2018 और फरवरी 2019 में रिव्यू हुआ था, जिसके बाद भी पाकिस्तान को राहत नहीं मिल सका. पाकिस्तान एफएटीएफ की सिफारिशों पर काम करने में असफल रहा.

पाकिस्तान को होगा ये नुकसान

FTAF द्वारा ब्लैकलिस्ट किए जाने के बाद पाकिस्तान को इसका भारी नुकसान झेलना पड़ सकता है. दसअसल, इस लिस्ट में जिन देशों को शामिल किया जाता है, उन्हें अन्य देश कर्ज देने में काफी जोखिम समझते हैं.  वहीं, पाकिस्तान की आर्थिक स्तिथि पहले से ही काफी खराब है. इसके साथ ही  अंतरराष्ट्रीय कर्जदाताओं ने भी पाकिस्तान आर्थिक मदद और कर्ज पहले से ही कमी कर दी है.

दो सप्ताह से जल रहा 'दुनिया का फेफड़ा', आठ महीने से 73,000 बार लगी आग

First published: 23 August 2019, 13:10 IST
 
अगली कहानी