Home » इंटरनेशनल » Feedback from China on 59 apps banned, read what the Ministry of External Affairs said
 

59 ऐप्स बैन होने पर चीन से आयी प्रतिक्रिया, पढ़िए विदेश मंत्रालय ने क्या कहा

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 June 2020, 14:23 IST

59 चीनी ऐप्स पर भारत द्वारा बैन लगाए जाने के फैसले पर चीन की ओर से कड़ी प्रतिक्रिया आयी है. इससे पहले भारत सरकार ने कहा था कि सुरक्षा चिंताओं के मद्देनजर उसने इन ऐप्स को बैन करने का कदम उठाया है. चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने मंगलवार को एक प्रेस ब्रीफिंग के दौरान कहा "चीन काफी चिंतित है और हम स्थिति का सत्यापन कर रहे हैं." चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने आगे कहा चीनी व्यवसायों के अधिकारों को बनाए रखना भारत की जिम्मेदारी है. भारत ने सोमवार को एक बड़े निर्णय में 59 चीनी ऐप्स को बैन कर दिया. चीन के साथ लद्दाख में सीमा विवाद के चलते भारत में चीनी सामानों को बैन करने के लिए एक अभियान लगातार चलाया जा रहा था.

भारत द्वारा प्रतिबंधित किए गए ऐप्स में बाइटडांस के लोकप्रिय वीडियो शेयरिंग प्लेटफॉर्म टिकटॉक और टेनसेंटस का वी चैट भी शामिल हैं. TikTok ने मंगलवार को एक बयान में कहा कि वह अपने यूसर्स की जानकारी चीन के साथ शेयर नहीं करती है. टिकटोक इंडिया के प्रमुख निखिल गांधी के बयान में कहा गया है कि टिकटॉक भारतीय कानून के तहत सभी डेटा प्राइवेसी और सुरक्षा नियमों का पालन करता है और उसने भारत में अपने यूजर्स की कोई जानकारी किसी विदेशी सरकार के साथ साझा नहीं की है.


जिन अन्य चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगाया गया है, उनमें क्लब फैक्ट्री, SHAREit, लाइक, Mi वीडियो कॉल (Xiaomi), Weibo, Baidu और Bigo Live शामिल हैं. इन ऐप्स को Google Play Store और Apple App Store से भी हटा दिया गया है. इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (ISPAI) ने भी इस कदम की सराहना की है. इसके अध्यक्ष राजेश छारिया ने कहा "यह अच्छा कदम है, ISPAI इन एप्स को ब्लॉक करने के लिए बहुत तेजी से कार्य करेगा.''

Google Play store और App store से भी हटा टिकटॉक, आपके फोन में चल रहा है तो, यहां है पूरी जानकारी

हालांकि भारत में चीनी न्यूज़ वेबसाइट और सरकारी प्रोपेगेंडा वेबसाइट ग्लोबल टाइम्स अभी ही एक्सेसेबल हैं लेकिन बीजिंग ने भारतीय न्यूज़ वेबसाइट के वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (वीपीएन) सर्वर को ब्लॉक कर दिया है. यानी बीजिंग में इन्हे नहीं पढ़ा/देखा जा सकता है. बीजिंग में राजनयिक सूत्रों के अनुसार भारतीय टीवी चैनलों को आईपी टीवी के माध्यम से अब भी एक्सेस किया जा सकता है.

बैन करने पर आयी Tiktok की ओर से प्रतिक्रिया, कहा- चीनी सरकार से नहीं करते डेटा शेयर

First published: 30 June 2020, 14:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी