Home » इंटरनेशनल » financial crises in trump govt america again on economical crisis shuts down on card democrats republicans blaming each other
 

बड़े आर्थिक संकट से दिवालिया होने की कगार पर अमेरिका, जाएगी लाखों की नौकरियां?

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 January 2018, 13:40 IST

अमेरिका में सबसे बड़े आर्थिक संकट का साया पड़ने वाला है. अमेरिका में संघीय सरकार को आर्थिक मंजूरी प्रदान करने वाले विधेयक को पारित करवाने में कांग्रेस नाकाम रही है और इसके बाद देश में एक बार फिर शटडाउन शुरू हो गया है. अपने कार्यकाल का एक साल पूरा कर रहे राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के लिए यह बड़ा झटका है.

शटडाउन के चलते अब पूरे देश में सरकारी कामकाज पूरी तरह से ठप्प हो जाएगा. ऐसे में एक बार फिर देश में नौकरियों का संकट पैदा होगा. पिछले पांच वर्षों में ऐसा पहली बार इसलिए हो रहा है क्योंकि सीनेटर्स ने सदन द्वारा पारित फंडिंग बिल को खारिज कर दिया है. इसी बिल के जरिए सरकार को 16 फरवरी तक की फंडिंग सुनिश्चित थी. अमेरिकी सरकार आधिकारिक तौर पर बंदी का सामना कर रही है.

'द हिल' के मुताबिक बिल को पारित करने के लिए 60 वोटों की जरूरत थी और उस संख्या के मुकाबले 48 सीनेटरों ने बिल के खिलाफ वोटिंग की है. केवल पांच डेमोक्रेटों ने बिल के पक्ष में मतदान किया है. डेमोक्रेट सीनेटर राजनीतिक खतरे का उल्लेख करते हुए स्टॉपगैप स्पेंडिंग पर रोक लगा चुके हैं. इसके बाद शनिवार सुबह कई सरकारी दफ्तर आधिकारिक तौर पर बंद रहे.

 

इस बड़े आर्थिक संकट के बाद अमेरिका के कई सरकारी विभाग बंद करने पड़ेंगे और लाखों कर्मचारियों को बिना सैलरी के घर बैठना होगा. शटडाउन पर व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव साराह सैंडर्स ने कहा कि डेमोक्रट सांसदों ने राजनीति को राष्ट्रीय सुरक्षा और अमेरिकी हितों के ऊपर रखा है.

वहीं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आरोप लगाया है कि टैक्स कटौती और अमेरिका की बढ़ती अर्थव्यवस्था के खिलाफ डेमोक्रेट सीनेटर शटडाउन चाहते हैं. ट्रंप ने दावा किया कि अमेरिकी अर्थव्यवस्था शायद अब तक की सबसे अच्छी स्थिति में है और देश बेहतरीन काम कर रहा है.

जानिए क्या है अमेरिकी शटडाउन

अमेरिका में एंटीडेफिशिएंसी एक्ट लागू है. इसके मुताबिक, पैसे की कमी होने पर संघीय एजेंसियों को अपना कामकाज रोकना पड़ता है. बजट न होने के कारण कर्मचारियों की छुट्टी कर दी जाती है और उन्हें वेतन भी नहीं दिया जाता. इस स्थिति में सरकार संघीय बजट लाती है, जिसे प्रतिनिधि सभा और सीनेट, दोनों में पारित कराना जरूरी होता है.

अमेरिका में यह पहली बार नहीं

अमेरिकी इतिहास में 1981, 1984, 1990, 1995-96 और 2013 में ऐसा हो चुका है. तब अमेरिका के पास खर्च करने के लिए पैसा नहीं बचा था. आखिरी सरकारी शटडाउन अक्टूबर 2013 में हुआ था, जो दो हफ्तों तक चला था और 8 लाख कर्मचारियों को इस दौरान घर बैठना पड़ा था. तब बराक ओबामा राष्ट्रपति थे.

First published: 20 January 2018, 13:24 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी